नई दिल्‍ली: दिल्‍ली की एक कोर्ट ने गुरुवार को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने के निर्देश दिए. इसके बाद जब पुलिस उन्‍हें अपने वाहन से तिहाड़ जेल ले जा रही थी, तो अंदर से ही हाथ हिलाते हुए नजर  आ रहे थे. जहां उनके समर्थक रोड किनारे से चिदंबरम को हाथ हिलाकर अभिवादन कर रहे थे. कांग्रेस के सीनियर नेता के समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन भी किया.

अदालत ने पूर्व वित्त मंत्री को उनकी दवाइयां अपने साथ जेल में ले जाने की अनुमति दी और निर्देश दिया कि उन्हें तिहाड़ जेल के अलग प्रकोष्ठ में रखा जाए क्योंकि उन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है.

INX मीडिया केस: कोर्ट ने पी चिदंबरम को 19 सितंबर के लिए तिहाड़ जेल भेजा

बता दें कि वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपए का विदेशी फंड प्राप्त करने के लिए आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी में अनियमितता का आरोप लगाते हुए केंद्रीय जांच ब्यूरो ने 15 मई, 2017 को प्राथमिकी दर्ज की थी.

अदालत ने चिदंबरम की याचिका पर प्रवर्तन निदेशालय को भी नोटिस जारी किया. इस याचिका में एजेंसी की ओर से दर्ज किए गए धन शोधन के मामले में कांग्रेस नेता ने आत्मसमर्पण करने की मांग की थी. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाई कोर्ट के 20 अगस्त के फैसले को चुनौती देने वाली चिदंबरम की याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें उन्हें अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया गया था. सीबीआई की दो दिन की हिरासत की अवधि समाप्त होने के बाद गुरूवार को चिदंबरम (73) को दिल्ली की अदालत में पेश किया गया था.

74 साल की उम्र में चमत्‍कार, एक नहीं, दो बच्‍चों की मां बनी वृद्ध महिला

कांग्रेस नेता की 15 दिन की सीबीआई हिरासत की अवधि आज समाप्त हो रही है. विशेष अदालत ने उन्हें पांच चरणों में 15 दिनों के लिए सीबीआई हिरासत में भेजा था, जो 21 अगस्त की रात को उनकी गिरफ्तारी के साथ शुरू हुआ था.

चिदंरबम के अधिवक्ता ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजने की सीबीआई की दलीलों का विरोध किया और कहा कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता घोटाले के कारण पैदा हुए धन शोधन मामले में पूछताछ के लिए प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में जाने के लिए तैयार हैं, जिसमें शीर्ष अदालत ने गुरुवार को उन्हें अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया.

पिता, भाई और जीजा को रास नहीं आई मुहब्‍बत, 20 साल की लड़की का ये हुआ अंजाम

वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपए का विदेशी फंड प्राप्त करने के लिए आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी में अनियमितता का आरोप लगाते हुए केंद्रीय जांच ब्यूरो ने 15 मई, 2017 को प्राथमिकी दर्ज की थी. इसके बाद, प्रवर्तन निदेशालय ने इस संबंध में 2017 में ही धन शोधन का मामला दर्ज किया था .

HAL ने तैयार किया ये LUH हेलिकॉप्टर, हिमालय, समुद्र और गर्म जगह में हुए ऐसे ट्रायल में पास

युपीए के 10 साल शासन के दौरान चिदंबरम 2004 से 2014 तक देश के गृह मंत्री और वित्त मंत्री रहे थे. राष्ट्रीय राजधानी के जोर बाग इलाके में स्थित उनके आवास से सीबीआई ने उन्हें 21 अगस्त को गिरफ्तार कर लिया था.