नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्‍या पर देश की तीन हस्तियों को सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने के साथ-साथ 112 पद्म सम्मान देने की भी घोषणा की गई. छत्तीसगढ़ की मशहूर पंडवानी शैली की लोक गायिका तीजन बाई, जिबूती के राष्ट्रपति इस्माइल उमर गुलेह, एल एंड टी के अध्यक्ष एएम नाईक और बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे को पद्म विभूषण सम्मान दिया गया. वहीं, इसरो के वैज्ञानिक नंबी नारायणन, पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष और भाजपा नेता करिया मुंडा, पत्रकार कुलदीप नैयर (मरणोपरांत), पर्वतारोही बछेंद्री पाल, सांसद हुकुमदेव नारायण यादव समेत 14 लोगों को पद्म भूषण सम्मान दिए जाने की घोषणा की गई. चौंसठ वर्ष की महान पर्वतारोही बछेंद्री पाल 1984 में एवरेस्ट की चढ़ाई करने वाली पहली भारतीय महिला बनी थीं. इसके अलावा एक्टर मनोज वाजपेयी, कादर खान (मरणोपरांत), डांस डायरेक्टर प्रभु देवा, फुटबॉलर सुनील छेत्री, क्रिकेटर गौतम गंभीर, गायक शंकर महादेवन और पहलवान बजरंग पूनिया समेत 94 लोगों को पद्मश्री सम्मान देने की भी घोषणा की गई.

सैंतीस वर्षीय गंभीर ने 2007 में भारत की विश्व टी-20 खिताबी जीत के फाइनल्स में और 2011 विश्व कप खिताबी जीत में मैच विजयी पारी खेली थी. चौंतीस साल के छेत्री पिछले एक दशक से भारतीय फुटबाल टीम की अगुवाई कर रहे हैं और देश के सर्वकालिक सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी हैं. बजरंग विश्व कप रजत और कांस्य पदकधारी पहलवान हैं, इसके अलावा उन्होंने 2018 में एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीता था. पिछले साल बजरंग प्रतिष्ठित खेल रत्न पुरस्कार के लिए नहीं चुने जाने के कारण नाराज हो गए थे. क्रिकेटर विराट कोहली और भारोत्तोलक मीराबाई चानू की देश के शीर्ष खेल पुरस्कार के लिए सिफारिश की गई थी. सरकार ने इस साल 112 विभूतियों को पद्म पुरस्कारों से नवाजा है, जिसमें चार पद्म विभूषण, 14 पद्म भूषण और 94 पद्म श्री शामिल हैं. पद्म सम्मानों की पूरी लिस्ट पर आइए डालते हैं एक नजर.

पद्म विभूषण
लोक गायिका तीजन बाई, जिबूती के राष्ट्रपति इस्माइल उमर गुलेह, L&T के अध्यक्ष एएम नाईक और लेखक बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे.

पद्म भूषण
अमेरिका के जॉन चैंबर्स, सुखदेव सिंह ढींढसा, दक्षिण अफ्रीका के प्रवीण गोवर्धन, MDH के महाशय धर्मपाल गुलाटी, दर्शनलाल जैन, अशोक लक्ष्मण राव कुकड़े, करिया मुंडा, बुद्धादित्य मुखर्जी, एक्टर मोहनलाल विश्वनाथन नायर, एस. नंबी नारायणन, कुलदीप नैयर (मरणोपरांत), बछेंद्री पाल, वीके शुंगलू और हुकुमदेव नारायण यादव.

नानाजी देशमुख, भूपेन हजारिका और प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न सम्मान, पीएम मोदी ने बताई वजह

नानाजी देशमुख, भूपेन हजारिका और प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न सम्मान, पीएम मोदी ने बताई वजह

पद्मश्री
राजेश्वर आचार्या, बंगारू अदिगलार, इलियास अली, मनोज वाजपेयी, उद्धव कुमार भराली, उमेश कुमार भारती, प्रीतम भर्तवान, ज्योति भट्ट, दिलीप चक्रवर्ती, मम्मन चांडी, स्वप्न चौधरी, कंवल सिंह चौहान, सुनील छेत्री, दिन्यार कॉन्ट्रैक्टर, मुक्ताबेन पंकजकुमार डागली, बाबूलाल दहिया, थंगा डारलांग, प्रभु देवा, राजकुमारी देवी, भागीरथी देवी, बलदेव सिंह ढिल्लन, हरिका द्रोणावली, गोदावरी दत्ता, गौतम गंभीर, द्रौपदी घिमिरे, रोहिणी गोडबोले, संदीप गुलेरिया, प्रताप सिंह हरदिया, बुलु इमाम, जर्मनी की फ्रेडरिक इरिना, जोरावर सिंह जादव, एस. जयशंकर, नरसिंह देव जम्वाल, फयाज अहमद जान, केजी जायान, अमेरिका के सुभाष काक, शरत कमल, रजनी कांत, सुदाम काटे, वामन केंद्रे, कादर खान (मरणोपरांत), अब्दुल गफूर खत्री, रवींद्र कोल्हे व स्मिता कोल्हे, बाम्बायला देवी लैशराम, कैलाश माडबैया, रमेश बाबाजी महाराज, वल्लभभाई वासरामभाई मरवनैया, अमेरिका की गीता मेहता, शादाब मोहम्मद, केके मुहम्मद, श्यामा प्रसाद मुखर्जी, दैतरी नायक, शंकर महादेवन, अमेरिका के शांतनु नारायण, नर्तकी नटराज, त्सेरिंग नोर्बू, अनूप रंजन पांडे, जगदीश प्रसाद पारीख, अमेरिका के गणपतभाई पटेल, बिमल पटेल, हुकुमचंद पाटीदार, हरविंदर सिंह फूलका, मदुरै चिन्ना पिल्लई, अमेरिका की ताओ पोर्चून लिंच, कमला पुजारी, बजरंग पूनिया, जगत राम, आरवी रमानी, देवरापल्ली प्रकाश राव, अनूप शाह, फ्रांस की मिलेना साल्विनी, नगिनदास संघवी, सीरीवेनल्ला सीताराम शास्त्री, शब्बीर सय्याद, महेश शर्मा, मो. हनीफ खान शास्त्री, ब्रजेश कुमार शुक्ला, नरेंद्र सिंह, प्रशांति सिंह, सुल्तान सिंह, ज्योति कुमार सिन्हा, आनंदन शिवमणि, शारदा श्रीनिवासन, देवेंद्र स्वरूप (मरणोपरांत), अजय ठाकुर, राजीव तारनाथ, साल्लुमरदा तिमक्का, जमुना टुडू, भारत भूषण त्यागी, रामास्वामी वेंकटस्वामी, रामशरण वर्मा, स्वामी विशुद्धानंद, हीरालाल यादव, वेंकटेस्वरा राव यदलापल्ली.

(इनपुट – एजेंसी)