नई दिल्ली: इंडियन आर्मी ने पाकिस्तानी सेना से कहा है कि वह रविवार को जम्मू के सुंदरबनी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास हुई मुठभेड़ में मारे गए दो पाकिस्तानी घुसपैठियों के शव ले जाए. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. बता दें कि रविवार को एलओसी के पास सेना की ओर से घुसपैठ की कोशिश नाकाम करने के बाद हुई मुठभेड़ में दो हथियारबंद पाकिस्तानी घुसपैठिए ढेर हुए थे और तीन सैनिक शहीद हो गए थे. रविवार को मुठभेड़ की यह घटना दोपहर करीब 1:20 बजे हुई थी. Also Read - जम्मू कश्मीर: भारतीय सेना ने चीन में बने पाकिस्तान आर्मी के क्वाडकॉप्टर को मार गिराया

Also Read - आतंकी आकाओं पर लगाम लगाने में फेल इमरान, FATF की ग्रे लिस्ट में ही रहेगा पाकिस्तान

जम्मू-कश्मीर में LoC पर घुसपैठ रोकने में 3 आर्मी जवान शहीद, 2 पाकिस्तानी आतंकी ढेर Also Read - आतंकी संगठनों को मदद दे रहा है पाकिस्तान, सुरक्षित वातावरण मुहैया कराना जाना जारी: विदेश मंत्रालय

थलसेना के एक अधिकारी ने नाम का खुलासा नहीं करने की शर्त पर रविवार को बताया कि माना जा रहा है कि मारे गए घुसपैठिये बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) के सदस्य थे, जिसमें पाकिस्तानी सेना के जवान और प्रशिक्षित आतंकवादी काम करते हैं.

UPDATE: जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर, 6 नागरिकों की भी मौत

सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना को स्थापित संवाद माध्यमों से सूचित किया गया है कि वे युद्धक वर्दी पहने अपने नागरिकों के शव लेकर जाए. आर्मी के सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना को सख्त चेतावनी दी गई है कि वह अपनी सरजमीं से काम कर रहे आतंकवादियों पर लगाम लगाए.

पांच-छह पाकिस्तानी घुसपैठिये एलओसी पार कर भारतीय सीमा में दाखिल हो गए और सुंदरबनी सेक्टर में भारतीय थलसेना के एक गश्ती दल पर फायरिंग करने लगे थे.

जम्मू कश्मीर के कुलगाम जिले में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकवादी ढेर

सेना के सूत्रों ने कहा कि बीते 29 मई को दोनों देशों के महानिदेशक सैन्य अभियान (डीजीएमओ) के बीच हुई बातचीत के बाद से भारतीय थलसेना एलओसी के पास संघर्षविराम समझौते पर अमल की खातिर पूरा संयम बरत रही है जबकि सीमा पार से नियमित तौर पर उकसाने वाले कदम उठाए जाते रहते हैं.

पाकिस्तानी सेना एलओसी के पास आतंकवादियों को भेजने की कोशिशें लगातार करती रही है. 30 मई से लेकर अब तक भारतीय सेना घुसपैठ की 7 कोशिशें नाकाम कर चुकी है, जिसमें 23 आतंकवादी मारे गए हैं.