नई दिल्ली। पाक आर्मी चीफ के साथ गले मिलने पर निशाने पर आए कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान दौरे का असर नजर आया है. सिद्धू के दौरे के कुछ दिनों बाद पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर को खोलने का ऐलान किया है. कहा जा रहा है कि श्रद्धालु बिना वीजा के ही यहां जा सकेंगे. इसे लेकर लंबे समय से भारत के सिख समुदाय के लोग मांग कर रहे थे.

सिद्धू ने इमरान का शुक्रिया अदा किया

पाकिस्तान सरकार के इस फैसले के लिए सिद्धू ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान का शुक्रिया अदा किया है. सिद्धू ने अपने दोस्त इमरान खान का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि करतारपुर साहिब का कॉरिडोर खोलने का फैसला लेकर उन्होंने करोड़ों सिखों की इच्छा को पूरा किया है. सिद्धू ने कहा कि पाक आर्मी चीफ से गले मिलने का इससे कोई संबंध नहीं है.

गुरुनानक देव के 550वें जन्मदिन का मौका

करतारपुर साहिब का कॉरिडोर पहले सिख गुरु गुरुनानक देवजी के 550वें जन्मदिवस पर खोला जाएगा जो नवंबर में पड़ता है. भारत की ओर से लंबे समय से मांग होती रही है कि सिख श्रद्धालुओं के लिए करतारपुर साहिब के दरवाजे खोले जाएं.

नवजोत सिंह सिद्ध के बचाव में आए पाक पीएम इमरान खान, सिद्धू को बताया शांति दूत

पाकिस्तान दौरे से लौटने के बाद सिद्धू ने कहा था कि उन्हें भरोसा है कि नई सरकार में भारत-पाक के रिश्ते सुधरेंगे क्योंकि उनके दोस्त इमरान खान ने शांति का पैगाम भेजा है. बता दें कि बीजेपी में रह चुके नवजोत सिद्धू के पाकिस्तान दौरे की बीजेपी ने कड़ी आलोचना की थी. खासतौर पर पाक आर्मी चीफ कमर बाजवा से गले मिलने और पीओके के नेता के साथ नजर आने पर उन्हें कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा था. लेकिन सिद्धू ने अपना बचाव करते हुए कहा कि वह शांति का पैगाम लेकर पाकिस्तान जा रहे हैं.