पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर संघर्ष विराम नहीं रुका तो इसकी सजा भारत को भुगतनी होगी। नवाज ने पाकिस्तान को ‘एक शांतिप्रिय देश’ करार देते हुए भारत को ये चेतावनी दी।

रेडियो पाकिस्तान के अनुसार, एक बयान में शरीफ ने दावा किया कि पाकिस्तान ने ‘अधिकतम धैर्य’ रखा है और स्पष्ट रूप से कहा कि ‘संघषर्विराम उल्लंघन’ जारी रहने पर उसकी सजा दिए बिना नहीं छोड़ा जाएगा।

शरीफ ने दावा किया कि पाकिस्तान ‘शांति प्रिय देश’ है और वह लंबित मुद्दों और विवादों को वार्ता के माध्यम से सुलझाने में यकीन रखता है।

रेडियो पाकिस्तान के अनुसार, शरीफ ने कहा, ‘जिम्मेदार राष्ट्र होने के नाते हम दक्षिण एशिया की बेहतरी और समृद्धि के लिए क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व चाहते हैं’।

इसके बाद नवाज ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पाकिस्तान की ‘पहलों और प्रयासों’ का भारत उसी भावना से जवाब नहीं दे रहा है’। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की ‘शांति चाहने की इच्छा को उसकी कमजोरी का संकेत नहीं समझा जाना चाहिए’। भारत को ‘संघर्षविराम उल्लंघन’ के ताजा मामलों की ‘जांच’ करनी चाहिए और उसके निष्कर्ष पाकिस्तान के साथ साझा करने चाहिए।

जिओ न्यूज ने कश्मीर मुद्दे पर शरीफ के इस बयान का हवाला देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ‘जम्मू-कश्मीर के न्यायसंगत हल का हम हमेशा बेहिचक और दृढ़ नैतिक, राजनयिक और राजनीतिक समर्थन जारी रखेंगे’।

खबर के अनुसार, शरीफ ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों को ‘कानूनन आत्म निर्णय का अधिकार’ मिलने तक यह समर्थन जारी रहेगा।

 

News Source: एजेंसियों से इनपुट