नई दिल्ली: पाकिस्तान अपनी घटिया हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. दरअसल दक्षेस देशों के साथ वीडियो कांफ्रेंस संवाद में पाकिस्तान ने कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए कहा कि कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये जम्मू कश्मीर में सभी तरह की पाबंदी को हटा लेना चाहिए. Also Read - पाकिस्तान में चीन की तुलना में काफी तेजी से फैल रहा है कोरोना वायरस, बेहद ख़राब हो सकते हैं हालात

बता दें कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संवाद में पीएम मोदी के अलावा श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे, मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के स्वास्थ्य ममलों पर विशेष सहायक जफर मिर्जा शामिल हुए. Also Read - COVID19: दिल्‍ली में 51 नए मामलों के साथ अबतक 720 मामले, कुल 12 मरीजों की मौत

इसी दौरान कांफ्रेंस जब खत्म होने वाली थी तभी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के स्वास्थ्य ममलों पर विशेष सहायक जफर मिर्जा ने अपने आखिरी संबोधन में कश्मीर का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा, “दक्षेस देशों के साथ वीडियो कांफ्रेंस संवाद में पाकिस्तान ने कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए कहा कि कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये जम्मू कश्मीर में सभी तरह की पाबंदी को हटा लेना चाहिए.” Also Read - COVID-19: आईपीएल फ्रेंचाइजी सनराइजर्स हैदराबाद ने 10 करोड़ रुपये दिए दान, कमेंट करने से खुद को नहीं रोक पाए वॉर्नर

हालांकि पाकिस्तान की इस टिप्पणी पर पीएम मोदी ने किसी तरह का कोई रिएक्शन नहीं दिया और उन्होंने कोरोना वायरस ले लड़ने के लिए एक साथ आने के लिए सभी देशों का धन्यवाद कहा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दक्षेस देशों के नेताओं और प्रतिनिधियों से कोरोना वायरस से निपटने के लिये संयुक्त रणनीति बनाने को लेकर संवाद करते हुए सतर्क रहने की जरूरत पर बल दिया. साथ ही उन्होंने इसको लेकर नहीं घबराने की अपील की.

अपने शुरूआती संबोधन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, ‘‘दक्षेस क्षेत्र में कोरोना वायरस से संक्रमण के लगभग 150 मामले आए हैं, लेकिन हमें सतर्क रहने की जरूरत है. तैयार रहें लेकिन घबराएं नहीं..यही हमारा मंत्र है.’’ हालांकि अपने पहले संबोधन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के स्वास्थ्य मामलों पर विशेष सहायक जफर मिर्जा ने कहा कि कोरोना वायरस फैलने के मद्देनजर उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिये कोई भी देश मुंह नहीं मोड़ सकता है.