कराची। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने भारत पर हिंद महासागर की सुरक्षा पर खतरा पैदा करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि भारत द्वारा परमाणु शक्ति के विस्तार से हिंद महासागर की शांति पर खतरा पैदा हुआ है। Also Read - विवादास्पद कृषि विधेयकों को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, अकाली दल बोला- भारत के लिए काला दिन है

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने आरोप लगाया कि भारत ‘विस्तारवादी’ समुद्री सुरक्षा रणनीति अपना रहा है और सर क्रीक का सीमांकन नहीं होने से हिंद महसागर की सुरक्षा को लेकर ‘खतरा’ पैदा हुआ है। Also Read - इमरान खान के लिए आगे मुश्किल वक्त, पाकिस्तान का FATF की कालीसूची में आना तय

अजीज ने कहा, ‘सर क्रीक में सीमा का रेखांकन नहीं होने से समुद्री सुरक्षा पर खतरे का साया बना हुआ है। भारत का विस्तारवादी समुद्री सुरक्षा रणनीति अपनाना हिंद
महासागर में शांति के लिए चिंता का विषय है।’ वह पाकिस्तानी नौसेना की ओर से आयोजित एक सम्मेलन में बोल रहे थे। Also Read - पीएम मोदी का दुनिया को भरोसा- भारत की टीका उत्पादन क्षमता पूरी मानवता को इस संकट से बाहर निकालेगी

अजीज ने कहा, ‘हिंद महसागर के क्षेत्र में परमाणु गतिविधियां बढ़ाने से क्षेत्र में अस्थिरता बढ़ेगी।’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का 95 फीसदी व्यापार समुद्र के रास्ते
हो रहा है और ऐसे में वह तनाव मुक्त हिंद महासागर पर बहुत अधिक निर्भर है।

अजीज ने कहा कि पाकिस्तान हिंद महासागर के तट से लगा हुआ तीसरा सबसे बड़ा देश है और नीतिगत मामले के तौर पर वह क्षेत्र की आर्थिक क्षमताओं का दोहन करने के लक्ष्यों को आगे बढ़ाना जारी रखे हुए है। उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण नौवहन और हिंद महासागर के क्षेत्र में पाकिस्तान रणनीतिक रूप से बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है।