पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के पार से अकारण संघर्ष विराम के उल्लंघन होने पर एक कड़ा विरोध जताने के लिए बुधवार को 24 घंटे के अंदर भारतीय उपउच्चायुक्त जे.पी.सिंह को दूसरी बार तलब किया। यहां जारी एक बयान में कहा गया है कि विदेश मंत्रालय में महानिदेशक(दक्षिण एशिया और दक्षेस) मोहम्मद फैसल ने सिंह को बुलया और मंगलवार को खुइराता और बट्टाल सेक्टर में भारत की तरफ से किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन की कड़ी निंदा की, जिसमें एक 10 वर्षीय बच्ची सहित चार नागरिकों की मौत हो गई।

बयान में आगे कहा गया कि महानिदेशक ने भारतीय पक्ष से साल 2003 के संघर्ष विराम समझौते का सम्मान करने, लगातार संघर्ष विराम उल्लंघन को रोकने, भारतीय बलों को संघर्ष विराम का सम्मान करने और गांवों और नियंत्रण रेखा के साथ रहने वाले नागरिकों को निशाना बनाना बंद करने का अनुरोध किया।

बयान में कहा गया है कि भारत ने इस साल 222 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है, जिसमें 184 बार नियंत्रण रेखा और 38 बार अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर संघर्ष विराम उल्लघन शामिल हैं। परिणास्वरूप 26 आम नागरिकों की मौत हुई और 107 अन्य घायल हुए।

संघर्ष विराम के उल्लंघन को लेकर भारतीय राजनयिक को मंगलवार बुलाया गया था, जिसमें एक महिला समेत तीन लोगों की मौत हो गई थी और चार अन्य घायल हुए थे।

दोनों पड़ोसी देशों के बीच बढ़ते तनाव के कारण विगत सप्ताहों में विदेश विभाग में भारतीय उप उच्चायुक्त को चार बार बुलाया जा चुका है।