नई दिल्लीः भारत ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान का संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की आतंकवाद निरोधक समिति से मुंबई हमले के सरगना हाफिज सईद को ‘‘जेब खर्च’’ के लिए उसके खाते से पैसे निकालने की अनुमति देने का अनुरोध करना इस्लामाबाद के उसके दोहरे चरित्र को दर्शाता है. यूनएससी की प्रतिबंध समिति ने पिछले महीने सईद को अपने खाते से दैनिक खर्चों के लिए राशि निकालने की मंजूरी दी थी.

इमरान खान इतना नहीं जानते कि अंतरराष्ट्रीय संबंधों के लिए में कैसे बर्ताव किया जाता है : विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘‘ एक देश वैश्विक आतंकवादी की ओर से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति के समक्ष जेब खर्चे के लिए पैसे निकालने की मंजूरी देने को लेकर आवेदन करता है. यह अजीब स्थिति है.’’ कुमार ने कहा कि एक ओर पाकिस्तान सुरक्षा परिषद से सईद को दैनिक जरूरतों के लिए बैंक खाते से पैसा निकालने की इजाजत देने को कहता है, दूसरी ओर कहता है कि आतंकवाद के खिलाफ की गई उसकी कार्रवाई पर दुनिया भरोसा नहीं करती.

Dassault Rafale : भारत को मई 2020 में मिलेगी राफेल युद्धक विमानों की पहली खेप

उन्होंने कहा, ‘‘कोई कैसे आप (पाकिस्तान) पर भरोसा कर सकता है. यह दोहरा चरित्र है. एक तरफ आप कुछ कहते हैं और दूसरी ओर कुछ और.’’ गौरतलब है कि 2008 में संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव 1267 के तहत हाफिज सईद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के बाद उसकी संपत्ति जब्त कर ली थी. संयुक्त राष्ट्र के प्रावधान के तहत सभी सदस्य देशों को घोषित वैश्विक आतंकवादी का कोष और अन्य वित्तीय एवं आर्थिक स्रोत को जब्त करना होता है.