नई दिल्ली: एक फ्रेंच अखबार को दिए इंटरव्यू में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने दावा किया था कि राफेल सौदे के लिए भारत सरकार ने ही रिलाइंस कंपनी का नाम आगे बढ़ाया था. रिलाइंस कंपनी को डील सौंपने में फ्रांस सरकार की कोई भूमिका नहीं थी. ओलांद अपने बयान पर कायम हैं. बीजेपी और कांग्रेस के बीच जुबानी जंग जारी है. राफेल डील के मुद्दे पर पश्चिम बंगाल बीजेपी के उपाध्यक्ष और नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परपोते चंद्र कुमार बोस ने भी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पप्पू कहकर हमला बोला और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अगर कोई सबूत है तो उन्हें गिरफ्तार कराएं या फिर खुद जेल जाने के लिए तैयार रहें. Also Read - ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने G7 शिखरवार्ता के लिए प्रधानमंत्री मोदी को भेजा न्योता, भारत को बताया ‘दुनिया की फार्मेसी’

चंद्र कुमार बोस ने अमितशाह, कांग्रेस और बीजेपी को टैग करते हुए कई ट्वीट किए. उन्होंने लिखा, राफेल मामले में नरेंद्र मोदी को गिरफ्तार करवाने के लिए राहुल गांधी को चुनौती देता हूं. अगर उनके पास सबूत है तो पीएम को गिरफ्तार करवाएं या खुद जेल जाने के लिए तैयार रहें. उन्होंने दूसरा ट्वीट किया, राजनेताओं के बीच बौद्धिक और राजनीतिक दिवालियापन देखना वाकई दुखद है. उन्हें देश के कल्याण और विकास पर केंद्रित होना चाहिए. इसके बजाय वे चोर कौन है, यह स्थापित करने की कोशिश कर समय और ऊर्जा बर्बाद कर रहे हैं. यह दयनीय है. Also Read - संजय राउत का बड़ा ऐलान, "पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव लड़ेगी शिवसेना"

जाहिर है राहुल गांधी नरेन्द्रमोदी को गिरफ्तार नहीं कर सकते- मेरा मतलब था कि अगर पप्पू के पास सबूत हैं- वह उचित कार्रवाई के लिए पुलिस / अदालतों को जमा कर सकता है. कृपया लोगों के साथ क्या गलत है अपने मस्तिष्क का उपयोग करें भले ही उसके मटर के आकार का दिमागा है. Also Read - स्वास्थ्य कर्मियों को लगने वाले टीके TMC कार्यकर्ताओं ने लगवाए इसी वजह से वैक्सीन की कमी हुई: दिलीप घोष

वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने रॉफेल डील पर शुरू विवाद में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान पर प्रतिक्रिया दी. न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए जेटली ने कहा, ये सिर्फ एक संयोग नहीं है कि रॉफेल मुद्दे पर दो देशों के विपक्ष के नेता एक ही भाषा बोल रहे हैं. उन्होंने इशारा किया कि यहां कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा एनडीए सरकार पर लगाए जा रहे आरोप और ओलांद के बयान में कोई लिंक हो सकता है.

जेटली ने कहा, 30 अगस्त को राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि आने वाले कुछ हफ्तों में बड़े खुलासे हो सकते हैं और इसके बाद 21 सितंबर को ओलांद का बयान ये बताता है कि दोनों एक ही लय में हैं. उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि वह एक प्रकार से बदला लेने के मोड में हैं. मुझे इस बात से कोई आश्चर्य नहीं होगा की इस मुद्दे पर सारी चीजें गुप्त रूप से आयोजित हों. 30 अगस्त को राहुल ने क्यों ट्वीट किया कि कुछ समय इंतजार करिए पेरिस में कुछ बड़ा धमाका होने वाला है? और चीजें उसी लय में हुई जो उन्होंने अनुमान लगाया था.