कोलकाताः ढाई साल पहले लापता हुआ किशोर एक टेलीविजन कार्यक्रम की मदद से अपने परिवार से मिल पाया. राज्य सरकार की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में बताया गया है कि 13 वर्षीय लड़के का परिवार ‘दूरदर्शन कोलकाता’ पर समाचार बुलेटिन देख रहा था जिसमें पश्चिम बंगाल के नादिया जिले में मानसिक रूप से कमजोर लोगों के एक आश्रय गृह में रहने वालों के बीच उन्होंने अपने बेटे को देखा.

अपने बेटे को पहचानते ही लड़के के पिता कार्तिक शॉ ने तत्काल पुलिस से संपर्क साधा, जिसके बाद पुलिस ने दूरदर्शन की समाचार इकाई में बात की. विज्ञप्ति के अनुसार, जिले के नाकाक्षिप्रा इलाके में स्थित गृह के संचालक मोस्लेम मुंशी ने बताया कि लगभग डेढ़ वर्ष पहले लड़के को जिला बाल कल्याण समिति ने ‘निर्मल हृदय’ भेज दिया था.

लड़का 10 फरवरी 2017 को उत्तरी कोलकाता स्थित अपने आवास के निकट एक खेत से लापता हो गया था. पिछले वर्ष नादिया जिला प्रशासन को वह करीमपुर में मिला था. मुंशी ने बताया, ‘लड़के के माता-पिता ने मुझसे संपर्क किया, वह नकाशिपारा आए और रविवार को अपने बेटे से मिले. इतने लंबे समय बाद बेटे को देखकर वे भावुक हो गए.’ औपचारिकताएं पूरी करने के बाद लड़का परिजनों को सौंप दिया जाएगा.