देहरादून| भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में ट्रेनिंग लेने वाले 490 जांबाज कैडेट शनिवार को पास आउट हो गए. आईएमए पास आउट सेना के अफसरों में 423 भारतीय और 67 विदेशी शामिल हैं. आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत बतौर रिव्यूइंग अफसर ने परेड की सलामी ली. इस दौरान ट्रेनिंग में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कैडेटों को सम्मानित भी किया गया. Also Read - IMA Dehradun: भारतीय सेना को मिले 347 युवा जाबांज, यूपी के सबसे ज्‍यादा 53 जैंटलमैन कैडेट्स

पासिंग आउट परेड के दौरान आईएमए में सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किए गए. पुलिस और सेना के जवान चप्पे चप्पे पर तैनात हैं. परेड के दौरान इस इलाके में रूट डायवर्ट कर दिया गया. Also Read - Army’s newest officers from Jammu and Kashmir, Lt Umar Fayaz brings both hope and dread | भारतीय सेना में अफसर बन शामिल हुए जम्मू-कश्मीर के 11 युवक, शहीद लेफ्टिनेंट उमर फयाज हैं इनके रोल मॉडल

शुक्रवार को लाइट एंड साउंड कार्यक्रम के साथ आईएमए में समारोह शुरू हुआ था. इस दौरान ऐतिहासिक चैटवुड ड्रिल स्क्वायर में इस कार्यक्रम में ड्रिल की प्रदर्शनी के साथ ही कैडेटों ने भी कई कार्यक्रम पेश किए. इस समारोह में कैडेटों ने 72 सहयोगी कैडेटों को विदाई दी. ऑडियो और वीडियो विजुअल की प्रस्तुति भी दी गई.

समारोह में शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई. भारतीय सैन्य अकादमी स्थित युद्ध स्मारक पर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल एसके उपाध्याय ने कहा कि देश की रक्षा में प्राणों की आहूति देने वाले अमर शहीदों को हर वक्त नमन करना चाहिए. स्मारक में लिखे करीब 841 अमर शहीदों के नामों को पढ़ने के बाद कैडेटों ने श्रद्धांजलि दी.