नई दिल्ली: मंगलवार के दिन बाबा रामदेव ने इस बात की घोषणा की कि उनकी आयुर्वेदिक कंपनी पतंजलि ने कोरोना वायरस की दवाई को खोज निकाला है. इस दौरान दवाई में इस्तेमाल किए गए सामानों, आयुर्वेदिक नुस्खों को लेकर भी बताया गया. प्रेस के संबोधन में यह कहा कि गया इस दवाई को रिसर्च और वैज्ञानिकी दस्तावेजों के आधार पर तैयार किया गया है. हालांकि आयुष मंत्रालय द्वारा कल ही बाबा रामदेव द्वारा लॉन्च की गई दवाई कोरोनिल (Coronil) पर रोक लगा दी गई थी. Also Read - राहुल गांधी ने केंद्र सरकार से किया सवाल, पूछा- क्या अब भी भारत कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अच्छी स्थिति में है?

इस बात आज आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा है कि यह अच्छी बात है कि बाबा रामदेव ने देश को कोरोना वायरस की दवाई उपलब्ध करवाई है. लेकिन नियमों के अनुसार इस दवाई से जुड़ी सभी जानकारियों व दवाई को आयुष मंत्रालय भेजा जाना चाहिए. इसके बाद दवा की जांच करवाई जाती है. हालांकि उन्होंने हमें एक रिपोर्ट भेजी है. हम इस रिपोर्ट पर काम कर रहे हैं, इस रिपोर्ट पर काम खत्म होने व जानकारियों को जानने के बाद अनुमति देने पर विचार किया जाएगा. Also Read - देश में कोरोना के 28 हजार से ज्‍यादा नए केस, कल 9 लाख के पार होगा आंकड़ा

गौरतलब है कि बाबा रामदेव द्वारा लॉन्च की गई दवाई कोरोनिल दवाई पूरी तरह आयुर्वेदिक है. इस बाबत बाबा रामदेव ने कहा कि इस दवाई के परीक्षण में हमने पाया कि 3 दिनों में 69 प्रतिशत रोगी इससे ठीक है. लेकिन 7 दिनों में 100 प्रतिशत मरीजों को ठीक किया जा चुका है. हालांकि आयुष मंत्रालय ने कल दवाई के प्रचार प्रसार पर रोक लगा दी थी. Also Read - Coronavirus in Pune: पुणे में एक दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक 1,088 नए मरीज आए सामने, जानें सभी जिलों का हाल