नई दिल्ली| योगगुरु बाबा रामदेव की पतंजलि ने अब ई-कॉमर्स में भी एंट्री कर ली है. पतंजलि ने अब अपने प्रोडक्ट्स ऑनलाइन बेचने के लिए ई-कॉमर्स साइट अमेजन और फ्लिपकार्ट के साथ करार किया है. यह करार मंगलवार को राजधानी दिल्ली में संपन्न हुआ. मंगलवार को बाबा और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स के अधिकारियों के साथ एक पत्रकार परिषद की. Also Read - Coronavirus Medicine Coronil: सुप्रीम कोर्ट से पतंजलि को मिली बड़ी राहत, दवा को लेकर कही ये बात

इस दौरान बाबा रामदेव ने कहा कि अब पतंजलि नॉट फॉर प्रोफिट कंपनी बनने की तरफ बढ़ेगी. इसके लिए कंपनी आने वाले समय में 1 लाख करोड़ रुपए की चैरिटी करेगी. उन्होंने यह भी कहा कि लोग गरीबों की मदद के लिए उनकी कंपनी को दान भी दे सकते हैं. Also Read - सुशांत के लिए बड़ी तादाद में 'ग्लोबल प्रेयर मीट' से जुड़े लोग, कृति सैनन-अंकिता लोखंडे से लेकर बाबा रामदेव शामिल

उन्होंने यह भी कहा कि पतंजलि की महाराष्ट्र में यूनिट लग गई है और अब वहां के किसानों से कंपनी संतरे खरीदेगी और उसके प्रोडक्ट्स बनाएगी. उन्होंने बताया कि आने वाले दो सालों के भीतर एक लाख करोड़ रुपये की प्रति सालाना कैपिसिटी तैयार कर रहे हैं. पतंजलि का टर्नओवर वित्त वर्ष 2016-17 में 10,000 करोड़ रुपए से ज्यादा रहा. इस वित्त वर्ष में पतंजलि का लक्ष्य इस लाभ को दोगुना करना है. बाबा रामदेव ने कहा कि एफएमसीजी मार्केट में धूम मचाने के बाद ई-कॉमर्स क्षेत्र में आने से पतंजलि का बाजार काफी बढ़ जाएगा. Also Read - IPL 2020 टाइटल स्पॉन्सर अधिकार हासिल करने को लेकर इन कंपनियों ने जमा किए दस्तावेज, 18 को होगा फैसला

इस दौरान बाबा रामदेव ने रिटेल सेक्टर में एफडीआई पर भी अपना पक्ष रखा. उन्होंने इसका विरोध किया और कहा कि रिटेल सेक्टर में एफडीआई नहीं आना चाहिए.