नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए विदेशी चंदे और फंडिंग के मामले में एनआईए ने 7 अलगाववादियों को गिरफ्तार कर मंगलवार दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया. यहां से कोर्ट ने उन्हें 18 दिनों की रिमांड पर भेज दिया. आरोपियों में एक हुर्रियत नेता गिलानी का दामाद भी शामिल है.

गौरतलब है कि कश्मीर में उपद्रव और हिंसा फैलाने के लिए पाकिस्तान से पैसा पाने के मामले में सात अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार किया था. सोमवार को एनआईए ने गिलानी के दामाद अल्ताफ अहमद शाह, शहीदुल इस्लाम, अयाज अकबर, मेहराजुद्दीन कलवाल, पीर सैफुल्ला और दो अन्य को गिरफ्तार किया था. इसके बाद इन लोगों को ट्रांजिट रिमांड पर श्रीनगर से दिल्ली लाया गया है. जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनके घरों पर एनआईए अधिकारियों ने पिछले महीने छापा मारा था.

अलगाववादियों ने किया बंद का एलान  

इस बीच, गिरफ्तारी के विरोध में अलगाववादियों ने मंगलवार को कश्मीर बंद का आह्वान किया है. एनआईए को छापे के दौरान बैंक स्टेटमेंट, दो करोड़ रुपये नकद के साथ ही लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन के साथ कई प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन के लेटरहेड मिले थे.

एनआईए फिर करेगी पूछताछ

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एनआईए इन सातों आरोपियों को रिमांड पर लेकर एक बार फिर गहन पूछताछ करेगी. हालांकि इससे पहले एनआईए दिल्ली में सीबीआई मुख्यालय में इनसे लंबी पूछताछ कर चुकी है.

बता दें कि अलगाववादी नेताओं पर आरोप है कि कश्मीर में सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और स्कूलों जलाने जैसे गतिविधियों के लिए  पाकिस्तान में मौजूद आतंकी संगठनों से पैसा मिलता था.

इसके अलावा घाटी में सुरक्षा बल पर पत्थर बरसाने के लिए हुर्रियत नेताओं को पाकिस्तान में मौजूद आतंकी संगठनों और पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई से भी फंडिंग मिलती है. अलगाववादी नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में हुर्रियत ने आज कश्मीर घाटी में बंद बुलाया है