नई दिल्ली. पेटीएम फाउंडर विजय शेखर शर्मा से 10 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने वाले केस का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. इस मामले में पुलिस को पर्सनल डेटा वाली एक हार्ड डिस्क और एक पेन ड्राइव मिली है. मिडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस पूरे मामले से खुलासा हुआ है कि इसमें विजय की सेक्रेटरी सोनिया धवन का ही हाथ है. वह पे टीएम की तरह ही एक नई कंपनी खड़ा करना चाहती थी, जिसके लिए इस पूरी साजिश को अंजाम दिया. Also Read - विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप: भारत की सोनिया सेमीफाइनल में, सिमरनजीत को कांस्य

रिपोर्ट के मुताबिक, मामले की जांच कर रही पुलिस को डेटा ग्रेटर नोएडा के शाहदरा गांव स्थित पेटीएम के एक कर्मचारी के घर से ही बरामद हुई है. इसमें सोनिया के साथ उसका पति और पेटीएम का ही एक कर्मचारी देवेंद्र भी शामिल था. बताया जा रहा है कि इसी डेटा के आधार पर विजय शेखर को ब्लैकमेल किया जा रहा था. Also Read - Paytm boss Vijay Shekhar Sharma to buy Rs 82 crore Lutyens' home | Paytm के मालिक ने लुटियंस जोन में खरीदा 82 करोड़ का बंगला!

तीन लोग गिरफ्तार
इस केस में सोनिया के साथ ही तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसमें एक आरोपी फरार चल रहा है. सभी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. बता दें कि सोनिया का पैकेज 70-80 लाख के बीच है. ऐसे में सवाल ये उठ रहा है कि इतना पैकेज होने के बाद भी वह इस तरह का काम कैसे कर सकती है.

साजिश की तरफ इशारा
दूसरी तरफ सोनिया के परिवार का कहना है कि उसे फंसाया गया है. वह 10 साल से ज्यादा समय से पेटीएम के साथ जुड़ी रही. वह उस कंपनी के साथ तबसे काम कर रही है जबसे पेटीएम-पेटीएम नहीं था. उसने पर्सनल सेक्रेटरी से वाइस प्रेसिडेंट तक का सफर तय किया था. ऐसे में उन्होंने इसके पीछे किसी की साजिश होने की आशंका जाहिर की है.