नई दिल्लीः अगले महीने राजस्थान में संभावित विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने कमर कस ली है. पार्टी ने अपने युवा प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट (Sachin Pilot) को प्रदेश में अपना चेहरा बनाने का संकेत दिया है. राज्य में वसुंधरा राजे की सरकार के खिलाफ लगातार मुहिम चलाने वाले सचिन पायलट को प्रदेश चुनाव समिति का प्रमुख बनाया गया है. यह समिति विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन का काम करेगी. इसका आशय यह है कि अब उम्मीदवारों के चयन में एक तरह से सचिन पायलट को खुली छूट दी गई है. इस समिति के अलावे कांग्रेस ने समन्वय समिति और घोषणापत्र समिति सहित आठ अन्य प्रमुख समितियों का गठन किया. Also Read - LIVE Delhi MCD By-Election Result 2021: दिल्ली उपचुनाव में AAP की शानदार जीत, भाजपा को मिली करारी हार

पार्टी के सगंठन महासचिव अशोक गहलोत की ओर से जारी बयान के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव समन्यव समिति, प्रदेश चुनाव समिति, चुनाव प्रचार समिति, घोषणापत्र समिति, प्रचार एवं प्रकाशन समिति, मीडिया एवं संचार समिति, परिवहन एवं आवास समिति, प्रोटोकॉल समिति और अनुशासन समिति का गठन किया है. गहलोत को चुनाव समन्वय समिति और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट को प्रदेश चुनाव समिति का प्रमुख बनाया गया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी जोशी प्रचार एवं प्रकाशन समिति की कमान संभालेंगे तो वरिष्ठ नेता रघु शर्मा को चुनाव प्रचार समिति के नेतृत्व की जिम्मेदारी दी गई है. Also Read - गुजरात निकाय चुनाव में कांग्रेस उम्‍मीदवार को मिली जीत पर जश्न, भीड़ ने घर में घुसकर दलित की हत्या की

पूर्व सांसद हरीश चौधरी घोषणापत्र समिति के प्रमुख होंगे. गोबिंद सिंह डोटासरा को मीडिया एवं संचार समिति, प्रसादी लाल मीणा को परिवहन एवं आवास समिति, रेहाना रियाज को प्रोटोकॉल समिति और भंवर लाल मेघवाल को अनुशासन समिति की कमान सौंपी गई है. गहलोत के मुताबिक राहुल गांधी ने तय किया है कि इन सभी समितियों के प्रमुख चुनाव समन्वय समिति के सदस्य होंगे. समन्वय समिति के अध्यक्ष (गहलोत), दूसरे वरिष्ठ नेताओं को समन्वय समिति की बैठकों में विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर बुला सकते हैं. प्रदेश चुनाव समिति में 44, चुनाव प्रचार समिति में 60 और घोषणापत्र समिति में 53 नेताओं को जगह दी गई है. राजस्थान में अगले कुछ हफ़्तों में विधानसभा चुनाव होना है. Also Read - Sex Scandal video पर घिरे Karnataka के मंत्री रमेश जारकीहोली ने कहा- आरोप साबित हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा