श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर के लिए नए भूमि कानून के खिलाफ पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) द्वारा यहां गुरुवार को निकाले जाने वाले विरोध मार्च को प्रशासन ने नाकाम कर दिया. पार्टी मुख्यालय से विरोध मार्च आयोजित होना था, मगर इसी दौरान पार्टी कार्यालय के पास कई पीडीपी नेताओं और समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. पुलिस बल को यहां एहतियात के तौर पर तैनात किया गया था. पीडीपी प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने एक ट्वीट में कहा कि श्रीनगर में पार्टी कार्यालय को प्रशासन ने सील कर दिया है और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है.Also Read - जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों की आतंकियों से मुठभेड़, दो को मार गिराया

महबूबा ने ट्वीट किया, “जम्मू-कश्मीर प्रशासन द्वारा श्रीनगर में पीडीपी के ऑफिस को जम्मू-कश्मीर प्रशासन द्वारा सील कर दिया गया है. कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है. जबकि वह शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे. जम्मू में भी इसी तरह के विरोध प्रदर्शन की अनुमति दी गई, फिर यहां इसे क्यों विफल कर दिया गया? क्या यह ‘सामान्यता’ की आपकी परिभाषा है जिसे दुनिया में दिखाया जा रहा है?” Also Read - Jammu Kashmir: बर्फ से ढके पहाड़ों पर 7-8 घंटे पैदल चलकर लगाने जाते हैं कोरोना वैक्सीन, तस्वीरें देख स्वास्थ्यकर्मियों को करेंगे सलाम!

Also Read - Night Curfew: जम्मू-कश्मीर में अगले आदेश तक जारी रहेगा नाइट कर्फ्यू, इस समय के दौरान बाहर न निकले

एक अन्य ट्वीट में, उन्होंने कहा कि पीडीपी जम्मू एवं कश्मीर में किसी भी जनसांख्यिकीय परिवर्तन को बर्दाश्त नहीं करेगी. उन्होंने ट्वीट कर कहा, “पीडीपी नेताओं को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने प्रदेश के लोगों पर थोपे गए उपनिवेशवादी भूमि कानूनों का विरोध करने के लिए गिरफ्तार किया है. हम अपनी आवाज को सामूहिक रूप से उठाते रहेंगे और जनसांख्यिकी को बदलने के प्रयासों को बर्दाश्त नहीं करेंगे.”