जम्मू: देश में 2019 में हुए संसदीय चुनाव में समर्थन हासिल करने के लिए आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन (Hizbul Mujahideen) के साथ कथित सांठगांठ के मामले में इस सप्ताह की शुरुआत में गिरफ्तार पीडीपी नेता वहीद पर्रा (Waheed ur Rehman Parra) को शुक्रवार को 15 दिन के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की हिरासत में भेज दिया गया है.Also Read - जम्मू कश्मीर: रामबन टनल हादसे में 10 लोगों की हुई मौत, सभी का शरीर बरामद, बचाव अभियान खत्म

पर्रा को इरफान शफी मीर के साथ उसके करीबी संबंध मामले में जम्मू में एनआईए की अदालत में पेश किया गया. मीर को इस वर्ष की शुरुआत में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी नवीद बाबू और निलंबित डिप्‍टी एसपी दविंदर सिंह के साथ गिरफ्तार किया गया था. Also Read - NIA के डिप्‍टी एसपी और उनकी पत्‍नी की हत्‍या में कुख्‍यात गैंगस्‍टर मुनीर और उसके गुर्गे को फांसी सजा

पर्रा को बुधवार को गिरफ्तार किए जाने के बाद एनआईए ने गुरुवार को उसे दिल्ली की अदालत में पेश किया था और उसे जम्मू की एक निर्दिष्ट अदालत के समक्ष पेश करने के लिए उसकी ट्रांजिट रिमांड का अनुरोध किया था. Also Read - जम्मू-श्रीनगर एनएच पर सुरंग में फंसे 9 मजदूरों के रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन के दौरान फिर पहाड़ ने ढाया कहर, ये है भयावह वीडियो

अधिकारियों के के मुताबिक, दविंदर सिंह की हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंवादियों के साथ संबंध की जांच के दौरान एनआईए को मीर के फोन रिकॉर्ड मिले, जो यह दिखाते थे कि वह पर्रा के साथ निकट संपर्क में था. अधिकारियों ने बताया कि पूछताछ के दौरान मीर ने दावा किया कि पर्रा ने 2019 में हुए सदीय चुनाव में पार्टी उम्मीदवार महबूबा मुफ्ती के लिए समर्थन मांगा था.