बेंगलुरुः कर्नाटक के उडुपी स्थित पेजावर मठ के प्रमुख श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी का रविवार को निधन हो गया। मठ के सूत्रों ने बताया कि वह कुछ समय से बीमार चल रहे थे। उन्होंने बताया कि दक्षिण भारत के प्रमुख धार्मिक गुरुओं में से एक, 88 वर्षीय स्वामी जी को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के चलते कुछ दिन पहले मनिपाल स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया था और रविवार सुबह उनका निधन हो गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वामी विश्वेश तीर्थ के निधन पर संवेदना प्रकट की. प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वामाजी लाखों लोगों के दिलों में हमेशा बने रहेंगे. प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘उडुपी के श्री पेजावर मठ के श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी उन लाखों लोगों के दिलो-दिमाग में बने रहेंगे, जिनके लिए वह हमेशा मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं.’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ मैं अपने आपको भाग्यशाली मानता हूं कि श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी से कई बार सीखने का मौका मिला. गुरु पूर्णिमा के अवसर पर हमारी हाल की मुलाकात भी यादगार है. उनका असाधारण ज्ञान हमेशा ही ध्यान आकर्षित करने वाला रहा. उनके अनगिनत अनुयायियों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि वह अध्यात्म और सेवा के शक्तिपुंज थे और उन्होंने अधिक न्यायपूर्ण और करुणामय समाज के लिए लगातार काम किया.


श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी पेजावर मठ के 33वें प्रमुख थे. कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया है. आपको बता दें कि इससे पहले डॉक्टरों ने जानकारी दी थी कि स्वामी जी को निमोनिया हुआ था. भाजपा नेता उमा भारती भी स्वामी जी की शिष्य थीं. उन्होंने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया और कहा कि वे सिर्फ मेरे लिए गुरू नहीं बल्कि पिता समान थे.