नई दिल्ली. फ्रांस के साथ लड़ाकू विमान सौदे को लेकर पहले से ही राजनीतिक दलों के निशाने पर आई अनिल अंबानी (Anil Ambani)  की कंपनी रिलायंस (Reliance Group) वार-दर-वार झेल रही है. इस कारण आर्थिक रूप से काफी कमजोर स्थिति से गुजर रही कंपनी पर चौतरफा हमले हो रहे हैं. सोमवार को कंपनी को एक और विकट स्थिति का सामना करना पड़ा, जब भारतीय नौसेना ने उस पर दंड लगा दिया. दरअसल, भारतीय नौसेना (Indian Navy) ने दंडात्मक कार्रवाई करते हुए 3,000 करोड़ रुपए के सौदे में रिलायंस नैवल इंजीनियरिंग लि. (RNEL) की बैंक गारंटी को भुना लिया है. रिलायंस नैवल इंजीनियरिंग द्वारा पांच समुद्री गश्ती नौकाओं की आपूर्ति में जरूरत से ज्यादा देरी के लिए नौसेना ने यह कार्रवाई की है.

राहुल गांधी बोले- राफेल की तरह नोटबंदी भारत के खिलाफ अपराध, दोषियों को मिलेगी सजा

नौसेना ने यह भी कहा है कि वह इस करार की जांच कर रही है. सूत्रों के अनुसार बैंक गारंटी कुल अनुबंध राशि का 10 प्रतिशत है. उन्होंने बताया कि कंपनी फिलहाल कॉरपोरेट ऋण पुनर्गठन की प्रक्रिया में है. नौसेना प्रमुख के बयान पर आरएनईएल से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं मिली है. नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने सोमवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि आरएनईएल को कोई तरजीह नहीं दी गई है. उन्होंने कहा, ‘‘उसकी बैंक गारंटी को भुना लिया गया है. उसके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की गई है. इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा रहा है.’’ नौसेना प्रमुख से कंपनी द्वारा गश्मी नौकाओं की आपूर्ति में अत्यधिक विलंब के बारे पूछा गया था. उनसे यह भी सवाल किया गया कि क्या कंपनी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने के लिए किसी तरह का दबाव डाला गया है. एडमिरल लांबा ने कहा कि यह सौदा अभी रद्द नहीं किया गया है. लेकिन साथ ही उन्होंने कहा कि इस पर गौर किया जा रहा है. उनका संकेत था कि इस मुद्दे पर अंतिम फैसला सरकार करेगी.

राफेल डील: मनमोहन सिंह बोले-मोदी सरकार जेपीसी जांच के लिए तैयार नहीं, दाल में कुछ काला है

अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस 58,000 करोड़ रुपए के राफेल जेट लड़ाकू विमान सौदे को लेकर विवादों के घेरे में है. कांग्रेस ने सरकार पर कंपनी का पक्ष लेने का आरोप लगाया है. हालांकि, कंपनी के साथ ही सरकार भी इन आरोपों का खंडन कर चुकी है. पांच समुद्री गश्ती जहाजों का 3,000 करोड़ रुपए का मूल करार पिपावाव डिफेंस एंड आफशोर इंजीनियरिंग को 2011 में मिला था. अनिल अंबानी समूह ने 2016 में इस कंपनी का अधिग्रहण कर लिया था. मूल अनुबंध के तहत पहले जहाज की आपूर्ति 2015 के शुरू में की जानी थी. हालांकि, इस समय-सीमा को कई बार बढ़ाया जा चुका है.