नई दिल्ली: कांग्रेस के सीनियर नेता संजय निरुपम ने एक बार फिर पीएम मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने गुजरात में यूपी-बिहार के लोगों पर कथित हमले को लेकर पीएम पर हमला बोला. निरुपम ने कहा कि पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में अगर यूपी, बिहार और एमपी के लोगों को मार-मार कर भगाया जाएगा तो एक दिन पीएम को भी वराणसी जाना है. वाराणसी के लोगों ने पीएम को गले लगाया और प्रधानमंत्री बनाया था. ये याद रखना. Also Read - PM मोदी को सोमनाथ मंदिर न्यास का अध्यक्ष बनाया गया, अमित शाह ने रखा था प्रस्‍ताव

गौरतलब है कि साबरकांठा जिले में 14 माह की बच्ची से रेप की घटना के बाद गैर-गुजरातियों पर कथित तौर पर हमला करने के मामलों में गुजरात के विभिन्न भागों से पुलिस ने अब तक 342 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस घटना के बाद राज्य के कई हिस्सों में गैर- गुजरातियों, खासतौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार के रहने वाले लोगों को निशाना बनाया जा रहा है. 28 सितम्बर को एक बच्ची के साथ कथित रूप से बलात्कार करने के लिए बिहार के एक निवासी को गिरफ्तार किये जाने के बाद गैर-गुजरातियों को निशाना बनाया गया और सोशल मीडिया पर घृणा संदेश फैलाये गए. Also Read - दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर निर्माण के लिए दान किए 111111 रुपये, मोदी को पत्र लिखकर मांगा विहिप द्वारा जुटाए गए चंदे का हिसाब

पुलिस महानिदेशक शिवानंद झा ने बताया,‘मुख्य रूप से छह जिले (हिंसा से) प्रभावित हुए है. मेहसाणा और साबरकांठा सबसे अधिक प्रभावित हुए है. इन जिलों में, 42 मामलें दर्ज किये गए हैं और अब तक 342 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है. जांच के दौरान आरोपियों के नाम सामने आने के बाद और लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा.’ उन्होंने बताया कि प्रभावित क्षेत्रों में राज्य रिजर्व पुलिस (सीआरपी) की 17 कंपनियों को तैनात किया गया है. Also Read - Cow Drinks Liquor Viral News: पानी समझकर शराब पी गईं गायें, फिर जो हुआ उसे जान दंग रह गए लोग

उन्होंने कहा,‘गैर-गुजराती के निवास क्षेत्रों और उन कारखानों में जहां वे काम करते हैं, वहां सुरक्षा बढ़ा दी गई है. पुलिस ने इन इलाकों में गश्त भी बढ़ा दी है.’ डीजीपी ने बताया कि सोशल मीडिया पर अफवाहें फैलाने के लिए दो मामलें दर्ज किये गए हैं. हमलों के बाद गैर-गुजरातियों के पलायन के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में झा ने कहा कि आने वाले त्योहारों के मद्देनजर वे अपने मूल राज्यों के लिए रवाना हो सकते है.

उन्होंने कहा कि सबसे अधिक प्रभावित जिले गांधीनगर में पुलिस अधिकारियों को शिविरों का आयोजन करने और स्थानीय नेताओं के साथ संवाद करने के निर्देश दिये गये है. उन्होंने कहा कि जिलों में अतिरिक्त सुरक्षा बल और वाहन उपलब्ध कराये गये है. इस बीच कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर ने घोषणा की कि इन हमलों के मद्देनजर उनके समर्थकों के खिलाफ दर्ज किये गये ‘झूठे मामलों’’ को यदि सरकार ने वापस नहीं लिया तो वह 11 अक्टूबर से ‘सद्भावना’ उपवास करेंगे.