चेन्नई: तुगलक के संपादक एस. गुरुमूर्ति के आवास पर पेट्रोल बम से हमला करने की कोशिश को नाकाम करते हुए चेन्नई पुलिस ने इस संबंध में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार, गुरुमूर्ति के आवास पर रविवार सुबह छह बाइक सवार पेट्रोल बम फेंकने की योजना बना रहे थे, लेकिन पुलिस सुरक्षा को देखते हुए उन्होंने वाहन की गति तेज कर दी.

गुरुमूर्ति ने कई सीरीज में सोमवार को ट्वीट कर कहा, “वर्तमान कहानी 2013 में पुलिस द्वारा फकरुद्दीन की गिरफ्तारी पर वापस आती है, जिसने कबूल किया कि वह मुझे गोली मारने से पहले पकड़ा गया था. उसने घर और कार्यालय की रेकी भी की थी.”

गुरुमूर्ति ने आगे कहा, “इसके बाद पुलिस ने मुझसे आग्रह किया कि मेरे पास एक गन मैन (सुरक्षाकर्मी) होना चाहिए और उन्होंने मुझे सलाह दी कि मैं घर और कार्यालय पर सीसीटीवी कैमरे लगा दूं.”

गुरुमूर्ति ने ट्वीट किया कि उनके परिवार की जीवनशैली कुत्ते पालने की अनुमति नहीं देती है, लेकिन “मेरे एक पुराने दोस्त ने रोजाना रात 10 बजे से सुबह पांच बजे के बीच अपने गार्ड के साथ एक कुत्ते को भेजना शुरू कर दिया.” उन्होंने कहा, “यह पांच सालों से अब तक चल रहा है. लेकिन आज कुत्ते के कारण ही सुरक्षा अलर्ट हो पाया और बदमाश हमले को अंजाम नहीं दे सके.”

गुरुमूर्ति के मुताबिक, उन्हें वर्तमान में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने सलाह दी थी कि क्या किया जाना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए और उन्हें अलर्ट करने के लिए एक इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी ने भी व्यक्तिगत रूप से दौरा किया था.

गुरुमूर्ति ने कहा, “हमलावरों के लिए पहला पाठ, उन्हें यह पता होना चाहिए कि मुझे ऐसी धमकियां 30 सालों से मिल रही हैं. यह मेरे लिए नया नहीं है. दूसरा, उन्हें बेहतर प्रशिक्षण और अधिक साहस की जरूरत है.”