जम्मू: तीर्थस्थल वैष्णो देवी जाने वाले तीर्थयात्रियों का पांच लाख रुपए का निशुल्क बीमा कराया जाएगा. जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में शनिवार को ‘श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड’ (एमवीडीएसबी) की बैठक में यह फैसला लिया गया. बता दें कि जम्मू क्षेत्र के रियासी जिले में स्थित त्रिकुटा पर्वत पर स्थित तीर्थ स्थल पर हर साल करीब दो करोड़ तीर्थयात्री दर्शन करने आते हैं. Also Read - Shardiya Navratri 2020: इस नवरात्रि त्योहार को बनाएं और भी खास, भारत के इन प्रसिद्ध मंदिरों में करें मां दुर्गा के दर्शन

बोर्ड ने तीर्थ स्थल आने वाले तीर्थयात्रियों को पांच लाख रुपए के निशुल्क दुर्घटना बीमा के अतिरिक्त घायल तीर्थयात्रियों का निशुल्क इलाज कराने का निर्णय लिया. राज्यपाल बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं. प्रवक्ता ने कहा कि यात्रा की पर्ची लेकर यात्रा शुरू करते ही तीर्थयात्री का दुर्घटना बीमा हो जाएगा. Also Read - Vaishno Devi Travel Guidline: अब सात हजार यात्री हर दिन करेंगे माता वैष्णो देवी के दर्शन, जानें क्या है नए नियम

प्रवक्ता ने कहा, “यह साफ करना जरूरी है कि बीमा का प्रीमियम बोर्ड द्वारा वहन किया जाएगा और बीमा आठ साल बाद अपग्रेड हो जाएगा.” बैठक में श्री माता वैष्णो देवी नारायण सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल के कामकाज पर भी चर्चा हुई. Also Read - Vaishno Devi Yatra: मां वैष्णो देवी के दर्शन कर सकेंगे पांच हजार श्रद्धालु, जानें क्या कहते हैं नए नियम

प्रवक्ता ने कहा कि बोर्ड ने अपने सामाजिक सहयोग उपक्रम के तहत अस्पताल में घायल तीर्थयात्रियों के इलाज के लिए मेडिकल सहयोग नीति पारित की. उन्होंने कहा, “बीमा लाभकर्ताओं में सड़क दुर्घटनाओं, भूस्खलन और पत्थरबाजी की घटनाओं और तीर्थस्थल के आस-पास के क्षेत्र में ऐसी अन्य घटनाओं में घायल लोगों को उपायुक्तों द्वारा रेफर किए जाने वाले घायल शामिल होंगे.”

प्रवक्ता ने कहा, “बोर्ड ने भविष्य की जरूरतों को देखते हुए एक करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से भैरव मंदिर पर मेडिकल इकाई स्थापित करने का निर्णय लिया है.” जम्मू क्षेत्र के रियासी जिले में स्थित त्रिकुटा पर्वत पर स्थित तीर्थ स्थल पर प्रतिवर्ष लगभग दो करोड़ तीर्थयात्री दर्शन करने आते हैं.