नई दिल्ली: दिल्लीवालों के लिए एक खुशखबरी है. नॉर्थ दिल्ली को सीधे साउथ दिल्ली से जोड़ने वाली दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन बुधवार से शुरू हो जाएगी. इस सुविधा के शुरू होने के बाद आप नॉर्थ दिल्ली से साउथ दिल्ली तक का सफर महज 35 मिनट में पूरा कर पाएंगे. मेट्रो फेज तीन में बन रही सबसे लंबी 59 किलोमीटर की पिंक लाइन के पहले 21 किलोमीटर के सेक्शन को चालू करने के लिए हरी झंडी मिल गई है. डीएमआरसी के अनुसार, पिंक लाइन का यह सेक्शन आम लोगों के लिए 14 मार्च शाम 6 बजे से खुल जाएगा. यह 21.56 किलोमीटर का सेक्शन है, जो मजलिस पार्क से दुर्गाबाई देशमुख साउथ कैंपस तक जाएगा. Also Read - Delhi METRO Recruitment 2020 Latest News: DMRC ने निकाली वेकेंसी, 50 हजार से ज्यादा होगी सैलरी, इंटरव्यू के आधार पर सेलेक्शन, जानें डिटेल्स

पिंक लाइन में दौड़ेंगी 19 ट्रेनें
पिंक लाइन पर कुल 19 ट्रेनें दौड़ेंगी, जिनकी फ्रिक्वेंसी 2 मिनट 28 सेकंड से लेकर 5 मिनट 12 सेकंड होगी. इस सेक्शन पर 12 मेट्रो स्टेशन होंगे. इसके खुलने से यात्रियों के लिए तीन नए इंटरचेंज बनेंगे. तीनों इंटरचेंज रेड, यलो व ब्लू लाइन पर बनेंगे. इन तीनों लाइन पर बनने वाले इंटरचेंज से यात्री डीयू के साउथ कैंपस तक यात्रा कर पहुंच जाएंगे. Also Read - Coronavirus updates in Delhi: दिल्‍ली मेट्रो के 20 अधिकारी-कर्मचारी कोविड-19 पॉजिटिव

12 स्टेशनों पर चलेगी मेट्रो
एलिवेटेड स्टेशन: 8 (साउथ कैंपस, दिल्ली कैंट, मायापुरी, राजौरी गार्डन, ईएसआई हॉस्पिटल, पंजाबी बाग वेस्ट, शकूरपुर, मजलिस पार्क)
अंडरग्राउंड स्टेशन: 4 (नारायणा विहार, नेताजी सुभाष प्लेस, शालीमार बाग, आजादपुर)
इंटरचेंज स्टेशन: 4 आजादपुर (यलो लाइन), नेताजी सुभाष प्लेस (रेड लाइन), राजौरी गार्डन (ब्लू लाइन), धौला कुआं (एयरपोर्ट लाइन) Also Read - क्या दिल्ली में शुरू होने वाली है मेट्रो! ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर बोले- कम से कम दो दिन लगेंगे सर्विस शुरू करने में

इस लाइन के शुरू होने के बाद छात्रों को भी काफी फायदा होगा. छात्र नार्थ कैंपस से साउथ कैंपस आसानी से आ जा सकेंगे. इतना ही नहीं इस लाइन के शुरू होने से रिंग रोड पर यातायात भी सुगम होने की संभावना है.

कॉरिडोर में आर्ट गैलरी
नेताजी सुभाष प्लेस स्टेशन के कोनकोर्स एरिया में इतनी खूबसूरत पेंटिंग लगाई गई हैं कि देखकर आपको ऐसा लगेगा कि आप किसी मेट्रो स्टेशन में नहीं, बल्कि किसी आर्ट गैलरी में खड़े हैं. यहां दर्जन भर से ज्यादा आर्ट वर्क इंस्टॉल किए गए हैं. कई नामचीन आर्टिस्टों की पेंटिंग्स को ग्लास पर उकेरने के बाद उन्हें यहां लगाया गया है. यह एक सेमी अंडरग्राउंड स्टेशन है, जिसके कोनकोर्स और ग्राउंड लेवल के बीच सिर्फ ढाई मीटर का गैप है.