नई दिल्ली: रेलमंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर में चल रहे उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक (यूएसबीआरएल) राष्ट्रीय परियोजना की प्रगति की समीक्षा की और कहा कि परियोजना को पूरा करके लोगों की ‘आकांक्षाओं’ को पूरा किया जाएगा, ताकि क्षेत्र देश के अन्य हिस्सों से सालभर जुड़ा रहे. गोयल के अलावा, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ वी.के. यादव, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगाल और यूएसबीआरएल परियोजना के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी विजय शर्मा भी बैठक के दौरान उपस्थित थे. उन्होंने कहा कि रेलवे जम्मू कश्मीर की जनता की आकांक्षाएं पूरी करने में अहम योगदान निभा रहा है. Also Read - IRCTC/Indian Railway Latest News Update: 19 जनवरी से अब सप्ताह के सभी सात दिन चलेगी मुंबई- निजामुद्दीन राजधानी एक्सप्रेस

शर्मा ने गोयल को कटरा-बनिहाल के बीच परियोजना के अंतिम चरण में काम की नवीनतम स्थिति से अवगत कराया. परियोजना की प्रगति पर संतोष व्यक्त करते हुए, गोयल ने कहा, “जम्मू और कश्मीर के लोगों की आकांक्षाओं को परियोजना को पूरा करके पूरा किया जाना है, ताकि यह क्षेत्र, देश के बाकी हिस्सों से जुड़े रहने के लिए एक अच्छी परिवहन प्रणाली से लैस हो सके.” Also Read - इंडियन रेलवे फायनेंस कॉर्पोरेशन का अगले सप्ताह आएगा IPO, प्राइस बैंड 25-26 रुपये तय; जानें- खास बातें

मंत्री ने परियोजना पर काम कर रहे इंजीनियरों से मिशन मोड पर काम के शेष हिस्से को शीघ्र पूरा करने का आह्वान किया. उन्होंने सामग्रियों की खरीद और अनुमति प्रक्रियाओं को समय पर पूरा करने के भी निर्देश दिए, ताकि लाइन के निर्माण में देरी न हो. Also Read - सरकार ने बढ़ा दी है रेलवे भर्ती परीक्षा की फीस? अब फॉर्म के देने होंगे इतने रुपये! जानें क्या है हकीकत

गंगाल ने मंत्री को जानकारी देते हुए कहा, “साइटों पर कारीगर शिविर और आइसोलेशन केंद्र उपलब्ध कराए गए हैं. यहां काम कर रहे 366 लोगों को कोरोना से संक्रमित पाया गया था, लेकिन सभी ठीक हो गए हैं.”

यूएसबीआरएस एक राष्ट्रीय परियोजना है, जिसे रेलवे द्वारा कश्मीर क्षेत्र को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने के उद्देश्य से शुरू किया गया है. इसके तहत हिमालय के जरिए ब्रॉड-गेज रेलवे लाइन का निर्माण शुरू किया गया है.

परियोजना के पहले तीन चरणों का निर्माण पूरा हो चुका है और कश्मीर घाटी में बारामूला-बनिहाल और जम्मू क्षेत्र में जम्मू-उधमपुर-कटरा के बीच ट्रेनों के परिचालन के लिए लाइन चालू है. फिलहाल कटरा-बनिहाल के 111 किलोमीटर सेक्शन पर काम चल रहा है. इस क्षेत्र में कठिन भौगोलिक स्थितियां विद्यमान हैं, जिससे यहां कई महत्वपूर्ण पुलों और सुरंगों का निर्माण किया जाएगा.