संसद से पारित होकर कानून बन चुके कृषि विधेयकों (Farms Bill 2020) को लेकर किसानों और विपक्षी पार्टियों का चौतरफा विरोध जारी है. सोमवार को देश की राजधानी के सबसे संवेदनशील इलाका माने जाने वाले इंडिया गेट पर कुछ लोगों ने ट्रैक्टर को आग के हवाले कर अपना विरोध जताया. इसे लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को नाराजगी जताई. पीएम मोदी ने इस घटना को लेकर विपक्ष पर निशाना साधते हुए किसानों को अपमानित करने का आरोप लगाया है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ये लोग चाहते हैं कि देश का किसान खुले बाजार में अपनी उपज नहीं बेच पाए. जिन सामानों की, उपकरणों की किसान पूजा करता है, उसे आग लगाकर ये लोग अब किसानों को अपमानित कर रहे हैं.’Also Read - विपक्षी सदस्यों का आचरण और उनका व्यवहार जनता का अपमान: पीएम मोदी

Also Read - पीएम मोदी ने लॉन्च किया e-RUPI डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन, जानें क्या है इसकी खासियत

प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड में विकास परियोजनाओं का उद्घाटन करते हए कहा, ‘अभी समाप्त हुए संसद सत्र में देश के किसानों, श्रमिकों और देश के स्वास्थ्य से जुड़े बड़े सुधार किए गए हैं. इन सुधारों से देश का श्रमिक सशक्त होगा, नौजवान सशक्त होगा, महिलाएं सशक्त होंगी, किसान सशक्त होगा. लेकिन आज देश देख रहा है कि कैसे कुछ लोग सिर्फ विरोध के लिए विरोध कर रहे हैं. Also Read - PM Modi Samwad: जब पीएम मोदी ने पूछा-डेंटिस्ट से IPS क्यों बनी? महिला ट्रेनी अफसर ने दिया मजेदार जवाब, जानिए

उन्होंने कहा कि अब से कुछ दिन पूर्व देश ने अपने किसानों को अनेक बंधनों से मुक्त किया है. अब देश का किसान कहीं पर भी, किसी को भी अपनी उपज बेच सकता है. लेकिन आज जब केंद्र सरकार किसानों को उनके अधिकार दे रही है, तो भी ये लोग विरोध पर उतर आए हैं. ये लोग चाहते हैं कि किसान की गाड़ियां जब्त होती रहे, उनसे बिचौलिए मुनाफा कमाते रहे. पीएम मोदी ने कहा कि वर्षों तक ये लोग कहते रहें कि MSP लागू करेंगे, लेकिन किया नहीं. MSP लागू करने का काम स्वामीनाथन कमीशन की इच्छा के अनुसार हमारी ही सरकार ने किया.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस कालखंड में देश ने देखा है कि कैसे डिजिटल भारत अभियान ने, जनधन बैंक खातों ने लोगों की कितनी मदद की है. जब यही काम हमारी सरकार ने शुरू किए थे, तो ये लोग इनका विरोध कर रहे थे. देश के गरीब का बैंक खाता खुल जाए, वो भी डिजिटल लेन-देन करे, इसका इन लोगों ने हमेशा विरोध किया.

उन्होंने कहा कि 4 वर्ष पहले का यही तो वो समय था, जब देश के जांबांजों ने सर्जिकल स्ट्राइक करते हुए आतंक के अड्डों को तबाह कर दिया था. लेकिन ये लोग अपने जांबाजों से ही सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहे थे. सर्जिकल स्ट्राइक का भी विरोध करके, ये लोग देश के सामने अपनी मंशा साफ कर चुके हैं. वायुसेना कहती रही कि हमें आधुनिक लड़ाकू विमान चाहिए, लेकिन ये लोग उनकी बात को अनसुना करते रहे. हमारी सरकार ने सीधे फ्रांस सरकार से सीधे राफेल लड़ाकू विमान का समझौता कर लिया तो, इन्हें फिर दिक्कत हुई.

बता दें कि कृषि कानून (Agriculture Laws) को लेकर पंजाब समेत देश के कई हिस्सों में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियां कृषि कानून को ‘किसान विरोधी’ करार देते हुए सरकार की आलोचना कर रही है. दिल्ली में सोमवार को इसे लेकर ही पंजाब यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने एक ट्रैक्टर जलाकर विरोध प्रदर्शन किया था.