नई दिल्ली। लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस बयान का भी जवाब दिया जिसमें उन्होंने आंख मिलाकर बात नहीं करने का दावा किया था. पीएम ने तंज भरे अंदाज में कहा कि भला एक कामदार एक नामदार की आंखों में आंख डालकर कैसे बोल सकता है. राहुल ने सदन में पीएम मोदी से गले मिलने के बाद अपनी सीट पर जाकर साथी सांसद की ओर आंख मारकर इशारा किया था. Also Read - PM मोदी शनिवार को सभी मुख्‍यमंत्रियों से करेंगे VC, लॉकडॉउन बढ़े या नहीं, हो सकता है फैसला

हम कामदार, आप नामदार Also Read - Coronavirus से निपटने में भारत अपने मित्रों की हरसंभव मदद के लिए तैयार है: PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा, आज पूरा देश टीवी पर आंखों का खेल देख रहा था. कैसे आंखें खोली जा रही है, कैसे बंद की जा रही है. पूरे देश ने आज देखा कि आज आंखों ने क्या किया. ये पूरे देश के सामने साफ हो गया है. आपकी आंखों में आंखें डालकर हम नहीं बोल सकते. आप नामदार और हम कामदार हैं, भला आपकी आंखों में आंखें डालकर कैसे देख सकते हैं. Also Read - पीएम मोदी ने काशी की जनता से कहा- मास्क नहीं है तो क्या हुआ, गमछा तो है, उसी से मुंह ढकिये

राहुल ने मारी थी आंख

बता दें कि आज लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान भाषण देने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अचानक प्रधानमंत्री को गले लगाकर एकबारगी सभी को चकित कर दिया. उनके इस बर्ताव से खुद पीएम मोदी भी हैरान दिखे. बाकी बीजेपी सांसदों का भी यही हाल रहा. इसके बाद राहुल अपनी सीट पर पहुंचे और वहां साथी सांसद की ओर देखकर आंख मारी.

अविश्वास प्रस्ताव: राफेल डील पर फ्रांस ने राहुल गांधी के आरोपों को किया खारिज

राहुल के इस कदम से मोदी भी चकित रह गए और गले लगने के लिए खड़े नहीं हो पाए, लेकिन तुरंत खुद को संभालते हुए उन्होंने राहुल गांधी को बुलाया और हाथ मिलाने के साथ-साथ उनकी पीठ थपथपाई. इस दौरान प्रधानमंत्री ने कुछ कहा भी, लेकिन इसे सुना नहीं जा सका. अपनी सीट पर वापस आने के बाद राहुल ने कहा, हिंदू होने का यही अर्थ है.

राहुल गांधी ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी, बीजेपी और आरएसएस ने मुझे सिखाया है कि कांग्रेसी होने का अर्थ क्या है, असली भारतीय होने का अर्थ क्या है और एक असली हिंदू होने का अर्थ क्या है. इसके लिए मैं उनका धन्यवाद करता हूं. उन्होंने कहा कि मेरे विरोधी मुझसे नफरत कर सकते हैं, मुझे पप्पू कह सकते हैं, लेकिन मुझे इसका गुस्सा नहीं है और न ही प्रधानमंत्री और भाजपा से घृणा है.