PM Modi On Harivansh: कृषि विधेयक (Farms Bill 2020) के पास होने के दौरान राज्यसभा में हुए हंगामे के कारण विपक्षी पार्टी के आठ निलंबित सांसद संसद भवन के बाहर महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास धरने पर बैठ गए. निलंबित सांसदों ने संसद परिसर में रातभर प्रदर्शन किया. सुबह-सुबह राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश (Harivansh) चाय लेकर संसद पहुंचे और सभी सांसदों को अपने हाथों से चाय दी. हरिवंश के इस काम की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तारीफ की. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन पर कांग्रेस का हमला - 'देश को कोरोना का ठोस समाधान चाहिए, कोरा भाषण नहीं'

प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कहा, ‘हर किसी ने देखा कि दो दिन पहले लोकतंत्र के मंदिर में उनको किस प्रकार अपमानित किया गया, उन पर हमला किया गया और फिर वही लोग उनके खिलाफ धरने पर भी बैठ गए. लेकिन आपको आनंद होगा कि आज हरिवंश जी ने उन्हीं लोगों को सवेरे-सवेरे अपने घर से चाय ले जाकर पिलाई.

उन्होंने आगे लिखा, ‘यह हरिवंश जी की उदारता और महानता को दर्शाता है. लोकतंत्र के लिए इससे खूबसूरत संदेश और क्या हो सकता है. मैं उन्हें इसके लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं.

उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा, ‘बिहार की धरती ने सदियों पहले पूरे विश्व को लोकतंत्र की शिक्षा दी थी. आज उसी बिहार की धरती से प्रजातंत्र के प्रतिनिधि बने श्री हरिवंश जी ने जो किया, वह प्रत्येक लोकतंत्र प्रेमी को प्रेरित और आनंदित करने वाला है.

उधर, सांसदों के व्यवहार से आहत उपसभापति हरिवंश () एक दिन का उपवास रखेंगे. राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति को खत लिखकर हरिवंश ने कहा कि वह सदन में हुए हंगामे से आहत हैं और रात भर सो भी नहीं सके. उन्होंने आगे लिखा, ‘मुझे लगता है कि उच्च सदन के मर्यादित पीठ पर मेरे साथ जो अपमानजनक व्यवहार हुआ उसके लिए मुझे एक दिन का उपवास करना चाहिए. शायद मेरे उपवास से इस तरह के आचरण करने वाले माननीय सदस्यों के भीतर आत्मशुद्धि का भाव जागृत हो.’