नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि विपक्षी दल जहां अपनी-अपनी मिल्कियत बचाने के लिए आपस में हाथ मिला रहे हैं, वहीं भाजपा ने देश की तकदीर बदलने के लिए काम किया है. उन्होंने कुछ विपक्षी नेताओं को ‘‘झूठ की मशीन’’ करार दिया और कहा कि “वे एके-47 के फायर की तरह झूठ दागते हैं.” पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे नेताओं से आम लोग नफरत करते हैं.

मोदी ने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि वे विपक्षी दलों के गठबंधन से चिंतित न हों क्योंकि लोग उन्हें स्वीकार नहीं करते. प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि उनके नकारात्मक कार्यों, देश के अच्छे कार्यों को नकारने और सेना के लिए ‘‘अपशब्द तथा अपमानजनक शब्दों’’ के चलते आम लोग उनसे “नफरत” करते हैं.

प्रधानमंत्री ने हालांकि किसी विपक्षी नेता का नाम नहीं लिया, लेकिन भाजपा अकसर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर राफेल सौदे पर उनके कथित झूठ को लेकर हमला बोलती रही है. पार्टी गांधी पर प्राय: देश तथा सेना का अपमान करने का आरोप भी लगाती रही है.

भाजपा के लिए राम मंदिर चुनावी नहीं आस्‍था का मुद्दा, कांग्रेस से मांगा मंदिर निर्माण पर जवाब

विपक्षी दलों को निशाना बनाने वाली मोदी की यह टिप्पणी तब आई जब एक भाजपा कार्यकर्ता ने वीडियो वार्ता के दौरान वामपंथी और कांग्रेस जैसे ‘‘राष्ट्र विरोधी’’ दलों के एकजुट होने पर प्रधानमंत्री से सवाल पूछा था. पांच लोकसभा क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं से बातचीत में एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने विपक्षी दलों पर अपनी सरकार के खिलाफ झूठ बोलने का आरोप लगाया और कहा कि लोगों के पास अब सही सूचना पाने के लिए अनेक साधन हैं.

भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के बिगड़े बोल, राहुल गांधी की तुलना चाबी वाले खिलौना से की

मोदी ने कहा, ‘‘कुछ नेता झूठ की मशीन की तरह हैं. वे जब भी अपना मुंह खोलते हैं, एके-47 के फायर की तरह झूठ दागते हैं.’’ उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि वे लोगों तक सही सूचना पहुंचाकर उनके (विपक्षी नेताओं) झूठ का खुलासा करें.

5 राज्यों के चुनावी मौसम में गो-भक्त से मुलाकात, पढ़िए हरिशंकर परसाई का मशहूर व्यंग्य

ईज ऑफ डूइंग रैंकिंग में भारत की ऊंची छलांग और अपने द्वारा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए कुछ कदमों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि ‘‘एक अच्छे’’ समय की शुरुआत हुई है और प्रदर्शन तथा प्रगति के मामले में भारत की क्षमता अब बढ़ रही है. प्रधानमंत्री ने कहा कि ईज ऑफ डूइंग में भारत की रैंकिंग 142वें स्थान से 77वें स्थान पर आ गई है और यह देश के विकास और सुधारों को एक मान्यता है.