मनामा: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली को भावभीनी श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वह यह कल्पना नहीं कर सकते कि वह यहां बहरीन में हैं जबकि उनके प्यारे दोस्त का नई दिल्ली में निधन हो गया. जेटली का शनिवार की दोपहर नई दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में निधन हो गया. वह 66 वर्ष के थे. उन्हें नौ अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था.

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं यह कल्पना नहीं कर सकता हूं कि मैं यहां बहरीन में हूं और मेरे प्यारे दोस्त अरुण जेटली का निधन हो गया. मोदी ने जेटली को ‘मूल्यवान मित्र’ बताया जिन्हें मामलों की बारीक समझ थी. बहरीन की यात्रा पर जाने वाले मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री बन गये हैं. उन्होंने कहा कि पूर्व वित्त मंत्री जीवन से परिपूर्ण, प्रबुद्ध, हास्य-विनोद से भरपूर और करिश्माई शख्सियत थे. बहरीन के नेशनल स्टेडियम में भारतीय समुदाय के लगभग 15 हजार लोगों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि एक तरफ वह कर्तव्य पथ से बंधे हैं और दूसरी तरह उनका मन शोक से भरा हुआ है.

मैं अपने प्यारे मित्र के निधन पर शोक मना रहा हूं
मोदी ने कहा कि ऐसे समय में जब लोग जन्माष्टमी का उत्सव मना रहे हैं और मैं अपने प्यारे मित्र के निधन पर शोक मना रहा हूं. उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले ही उन्होंने बहन और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को खो दिया था और अब उनके ‘प्यारे दोस्त’ चले गये. मोदी ने कहा कि कुछ दिन पहले हमने विदेश मंत्री बहन सुषमा जी को खो दिया था. आज मेरे प्यारे दोस्त अरुण चले गये. प्रधानमंत्री ने शनिवार को जेटली की पत्नी और पुत्र से बात की और शोक जताया. दोनों ने प्रधानमंत्री से अपनी विदेश यात्रा रद्द नहीं करने का अनुरोध किया.

जेटली को समाज का हर तबका पसंद करता था: मोदी
मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि जेटली को समाज का हर तबका पसंद करता था. उन्होंने कहा कि वह एक बहुआयामी व्यक्तित्व वाले, संविधान, इतिहास, लोक नीति, शासन और प्रशासन के प्रखर ज्ञाता थे. उन्होंने कहा कि अरुण जेटली जी के जाने से मैंने अपना एक मूल्यवान मित्र खो दिया, जिन्हें दशकों से जानने का मुझे सौभाग्य प्राप्त था. उनमें मुद्दों को लेकर जो अंतर्दृष्टि और चीजों की समझ थी, वह विरले ही किसी में देखने को मिलती है. उन्होंने जीवन को भरपूर जिया और हम सभी के दिलों में अनगिनत खुशी के लम्हे छोड़ गये! हम उन्हें याद करेंगे.

भाजपा और अरुण जेटली जी में अटूट रिश्ता: मोदी
मोदी ने भाजपा में उनके योगदान को भी याद किया. उन्होंने कहा कि भाजपा और अरुण जेटली जी में अटूट रिश्ता था. एक जोशीले छात्र नेता के तौर पर आपातकाल के दौरान वह लोकतंत्र की सुरक्षा में अग्रणी रहे. वह हमारी पार्टी के सबसे पसंदीदा चेहरा रहे, जो समाज के व्यापक हिस्सों के समक्ष पार्टी कार्यक्रमों और विचारधारा को आसान शब्दों में पेश करते थे. प्रधानमंत्री तीन देशों फ्रांस, संयुक्त अरब अमीरत और बहरीन की अपनी यात्रा के तीसरे चरण के तहत यहां है. मोदी को जी7 सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए रविवार को बहरीन से फ्रांस जाना है.