नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेे लोक कल्याण के उद्देश्य से विभिन्न माध्यमों से दिए गए दान की कुल राशि 103 करोड़ रुपए से अधिक की  है. सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी है. सूत्रों के अनुसार,  पीएम मोदी ने अपनी बचत में से बालिकाओं की शिक्षा से लेकर गंगा की सफाई जैसे कार्यों के लिए दान दिया है. साथ ही, प्रधानमंत्री को प्राप्त उपहारों की नीलामी से मिले धन को भी सार्वजनिक हित के लिए दान दिया गया है. Also Read - PM Narendra Modi Birthday: रिया को लेकर पीएम मोदी के मन की बात, देखें श्याम रंगीला का मजेदार Video

मोदी द्वारा लोक कल्याण के लिए दिए गए दान की कुल राशि अब एक 103 करोड़ रुपए से अधिक हो गई है. हाल ही में मोदी ने कोविड-19 के मद्देनजर स्थापित किए गए प्रधानमंत्री आपात स्थिति नागरिक सहायता एवं राहत कोष (पीएम केयर्स) में 2.25 लाख रुपए दान दिए थे. Also Read - Happy B'day PM Narendra Modi: ये हैं पीएम मोदी की कुछ Unseen Pics, फोटो में देखें छात्र से लेकर पीएम बनने तक का सफर

बुधवार को सार्वजनिक किए गए खाते के विवरण के अनुसार, मार्च में स्थापना के महज पांच के भीतर इस कोष में 3,076.62 करोड़ रुपए जमा हुए थे. Also Read - Who Is Shwetank: कौन है वाराणसी के श्वेतांक, जिनकी PM Modi ने की तारीफ

लोक हित के लिए मोदी द्वारा दिए गए दान को रेखांकित करते हुए सूत्रों ने बताया कि 2019 में कुंभ मेले में सफाई कर्मचारियों के कल्याण के लिए बनाए गए कोष में प्रधानमंत्री ने अपनी निजी बचत में से 21 लाख रुपए दान दिए थे.

सूत्रों ने कहा कि दक्षिण कोरिया में 2019 में सियोल शांति पुरस्कार प्राप्त करने के बाद प्रधानमंत्री ने पुरस्कार में मिली 1.30 करोड़ रुपये की राशि को नमामि गंगे परियोजना में दान देने की घोषणा की थी.

प्रधानमंत्री को मिले स्मृति चिह्नों की हाल ही में हुई नीलामी से तीन करोड़ चालीस लाख रुपए प्राप्त हुए, जिन्हें नमामि गंगे परियोजना में दान दे दिया गया.

2014 में गुजरात के मुख्यमंत्री पद को छोड़कर प्रधानमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद मोदी ने गुजरात सरकार में कार्यरत एक कर्मचारी की बेटी की शादी के लिए अपनी निजी बचत में से 21 लाख रुपए दान दे दिए थे.

मोदी ने मुख्यमंत्री के तौर पर मिले उपहारों की नीलामी से प्राप्त 89.96 करोड़ रुपए ‘कन्या केलवणी कोष’ में दान दे दिए थे, जो कि बालिकाओं की शिक्षा के लिए शुरू की गई एक योजना है.

सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उपहारों की नीलामी 2015 में शुरू की थी, जिससे प्राप्त 8.35 करोड़ रुपए की राशि को नमामि गंगे परियोजना में दान दे दिया गया था.