नोएडा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को साउथ कोरिया के राष्ट्रपति के साथ उत्तर प्रदेश के नोएडा में दुनिया के सबसे बड़े मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का उद्घाटन किया. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम से प्रोत्साहन पाकर भारत दुनिया में दूसरा बड़ा मोबाइल फोन निर्माता बन गया है. पिछले चार साल में मोबाइल फोन बनाने वाले कारखानों की संख्या दो से बढ़कर 120 पर पहुंच गई है.

बता दें कि नोएडा में साउथ कोरिया की कंपनी सैमसंग ने अपने मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट की क्षमता को बढ़ाया है और इस तरह अब ये प्लांट दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग प्लांट बन गया है जहां पर एक साल में 5 करोड़ मोबाइल बनाए जाएंगे.

इससे पहले पीएम मोदी ने नोएडा जाने के लिए दिल्ली मेट्रो का मार्ग चुना और वो साउथ कोरिया के राष्ट्रपति के साथ मेट्रो में सवार होकर नोएडा पहुंचे. इस दौरान रास्ते में लोगों ने पीएम मोदी को अपने बीच पाकर उत्साह में नारे भी लगाए और उनके साथ सेल्फी भी क्लिक की. पीएम मोदी ने भी हाथ हिलाकर लोगों के अभिवादन को स्वीकार किया.

इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि मोबाइल फोन बनाने वाले कारखानों की संख्या बढ़ने के साथ ही इस क्षेत्र में चार लाख रोजगार पैदा हुए हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह के बड़े कारखानों में निवेश दक्षिण कोरिया जैसे देशों के साथ भारत के आर्थिक और वाणिज्यक रिश्तों की बुनियाद के पत्थर हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘भारत को विनिर्माण क्षेत्र में दुनिया का बड़ा केन्द्र बनाने की दिशा में आज एक महत्वपूर्ण दिन है.’’ उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था आज दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवसथाओं में से एक है. इसके साथ ही देश में तेजी से फैलते मध्यम वर्ग की वजह से यहां असीमित संभावनाएं भी उपलब्ध हैं.

मोदी ने कहा, ‘‘मेक इन इंडिया को आगे बढ़ाने की हमारी पहल न केवल हमारी आर्थिक नीति का हिस्सा है बल्कि दक्षिण कोरिया जैसे देशों के साथ हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए प्रतिबद्धता को भी दर्शाता है.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में 40 करोड़ लोगों के पास स्मार्टफोन है जबकि 32 करोड़ लोग ब्राडबैंड इंटरनेट इस्तेमाल कर रहे हैं.