प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चर्चा का न्योता दिया है। सूत्रों के मुताबिक मोदी ने शाम को दोनों नेताओं को चर्चा के लिए न्योता दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ जीएसटी बिल पर चर्चा करना चाहते हैं।

यह भी पढ़े: संवैधानिक सिद्धांतों, विचारों पर जान बूझकर हमला: सोनिया

वहीँ, काग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी जीएसटी पर सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी  के साथ सहयोग को तैयार है, लेकिन उनकी पार्टी को कुछ बिंदुओं पर आपत्ति है और कांग्रेस कर पर एक सीमा चाहती है। राहुल ने संसद भवन के बाहर मीडिया से कहा, “हम (कांग्रेस) जीएसटी पर भाजपा के साथ सहयोग को तैयार हैं। लेकिन हमारे कुछ मतभेद हैं। हम कर पर एक सीमा चाहते हैं, और हम नहीं चाहते कि देश के गरीब लोगों पर कर लगाया जाए।”

इस बीच केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र सरकार प्रस्तावित जीएसटी के लिए एक प्रतिशत अतिरिक्त कर लगाने के मुद्दे पर सहमति बनाना चाहती है।

आपको बता दें की जीएसटी लागू होते ही सेंट्रल सेल्स टैक्स, एक्साइज़, लग्जरी टैक्स, एंटरटेनमेंट टैक्स, ऑक्टरॉई, वैट जैसे अलग-अलग सेंट्रल और लोकल टैक्स खत्म हो जाएंगे। इससे पूरे देश में एक प्रोडक्ट लगभग एक जैसी ही कीमत पर मिलेगा।