नई दिल्ली. सीबीआई प्रमुख के चयन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली समिति की दूसरी बैठक भी बेनतीजा रही. अधिकारियों ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी. इससे पहले 24 जनवरी को बैठक हुई थी लेकिन सीबीआई प्रमुख पर कोई फैसला नहीं हो पाया था. शुक्रवार की बैठक में प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे मौजूद थे. आलोक वर्मा को हटाए जाने के बाद से सीबीआई प्रमुख का पद 10 जनवरी से ही खाली है. भ्रष्टाचार के आरोपों पर गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना और वर्मा के बीच टकराव हुआ था. वर्मा और अस्थाना दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे.

प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली समिति द्वारा सीबीआई निदेशक पद से हटाए जाने के बाद वर्मा को महानिदेशक दमकल सेवा, नागरिक सुरक्षा और गृह रक्षा बनाया गया था. हालांकि, वर्मा ने इस पद को स्वीकार नहीं किया. वर्मा के हटाए जाने के बाद से एम नागेश्वर राव अंतरिम सीबीआई प्रमुख के तौर पर काम कर रहे हैं. इससे पहले बीते 24 जनवरी को भी पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली उच्च अधिकार प्राप्त समिति की बैठक में सीबीआई निदेशक के चयन को लेकर कोई फैसला नहीं हो सका था. उस समय सरकार के अधिकारी ने कहा था कि सीबीआई निदेशक के चयन के लिए समिति की एक और बैठक जल्द बुलाई जाएगी. शुक्रवार को इसी बाबत बैठक हुई, लेकिन इसका भी कोई नतीजा नहीं निकल सका.