झांसीः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि पुलवामा में आतंकी संगठनों और उनके आकाओं ने जो हैवानियत दिखाई है, उसका पूरा हिसाब लिया जाएगा तथा सुरक्षा बलों को आगे की कार्रवाई, समय, स्थान और स्वरूप तय करने की पूरी इजाजत दी गई है. प्रधानमंत्री ने यहां एक कार्यक्रम में पाकिस्तान का नाम लिये बिना कहा , ‘‘ आज देश बहुत ही उद्वेलित और दुःखी है. पुलवामा में आतंकियों ने जो कायरतापूर्ण हमला किया है, उससे पूरे देश में आक्रोश है. मैं साफ़ कह देना चाहता हूं कि हमारे वीरों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा.’’Also Read - Bilkis Bano के दोषियों की रिहाई को लेकर कांग्रेस का PM मोदी पर निशाना- 'राजधर्म' की दिलाई याद

मोदी ने कहा कि हमारे पडोसी देश के लिए रोजमर्रा का खर्चा तक चलाना मुश्किल हो गया है, वह दुनिया में भीख का कटोरा लेकर घूम रहा है. पुलवामा जैसी तबाही मचाकर, वह हमें भी बदहाल करना चाहता है. लेकिन उसके इस मंसूबे का हम सब देशवासी मिलकर मुंहतोड़ जवाब देंगे. Also Read - Top 10 News 16th August: बिहार में आज नीतीश मंत्रिमंडल का होगा विस्तार, 31 विधायक लेंगे शपथ, पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी की चौथी पुण्यतिथि आज

उन्होंने कहा, ‘‘ सुरक्षा बलों को आगे की कार्रवाई के लिए, समय क्या हो, स्थान क्या हो और स्वरूप कैसा हो, ये तय करने के लिए पूरी इजाजत दे दी गई है . ’’ आतंकवादियों एवं उनके सरपरस्तों को कड़ा संदेश देते हुए मोदी ने कहा कि आतंकी संगठनों और उनके आकाओं ने जो हैवानियत दिखाई है, उसका पूरा हिसाब लिया जाएगा . Also Read - CM Yogi Live: ध्वजारोहण के बाद ‘मुख्यमंत्री योगी’ का प्रदेश के नाम संबोधन, सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों का किया जिक्र | Watch Video

उन्होंने कहा, ‘‘ पुलवामा हमले के गुनाहगारों को उनके किये की सजा जरूर मिलेगी. हमारा पड़ोसी देश ये भूल रहा है कि ये नई रीति और नई नीति वाला भारत है. आतंकी संगठनों और उनके आकाओं ने जो हैवानियत दिखाई है, उसका पूरा हिसाब किया जाएगा .’’ उन्होंने कहा कि ये धरती गवाह है कि मां भारती की रक्षा हमारे लिए सर्वोपरि है. ये धरती मणिकर्णिका के शौर्य की भूमि है जिन्होंने झांसी की रानी के रूप में देश की आजादी के आंदोलन को नई प्रेरणा दी .

प्रधानमंत्री ने पुलवामा आतंकी हमले के मद्देनजर राजनीतिक कार्यक्रम रद्द कर दिया है. प्रधानमंत्री ने यहां रक्षा कारिडोर के उद्घाटन अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम के संबंध में कहा कि अब बुंदेलखंड को देश की सुरक्षा और विकास का कॉरिडोर बनाने का अभियान शुरू हो चुका है. झांसी से आगरा तक बन रहा यह डिफेंस कॉरिडोर देश को सशक्त करने के साथ ही बुंदेलखंड और उत्तर प्रदेश के युवाओं को रोज़गार के नए अवसर भी उपलब्ध कराएगा.