PM Modi Samwad: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 2019 बैच के आईपीएस प्रोबेशनर्स के साथ बातचीत की. ये IPS प्रोबेशनर्स ‘सरदार वल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी हैदराबाद में उपस्थित थे और पीएम मोदी से रूबरू थे. इस दौरान पीएम मोदी ने कई अफसरों से सीधे बातचीत की और उनके अनुभव को जानने की कोशिश की, साथ ही उन्हें कई सुझाव भी दिए. पीएम ने ऑफिसर्स से देश में पुलिस व्यवस्था को बेहतर बनाने की दिशा में काम करने की बात कही. इस अवसर पर गृह मंत्री अमित शाह और गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय भी वर्चुअली बैठक से जुड़े रहे.Also Read - महंत नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में किया था शिष्य आनंद का जिक्र, उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार से हिरासत में लिया

पीएम मोदी की इस दौरान एक महिला ट्रेनी IPS ऑफिसर डॉक्टर नवजोत सिमी से दिलचस्प बातचीत हुई. दरअसल, नवजोत सिमी ने बताया कि वह पहले डेंटिस्ट थीं और फिर आईपीएस बनीं. इसपर पीएम मोदी ने पूछा कि लोगों के दांत का दर्द दूर करने की जिम्मेदारी उठाई थी तो फिर देश के दुश्मनों ने दांत खट्टे करने की आपने क्यों सोची? इस पर डॉ सिमी ने बड़ा ही दिलचस्प जवाब दिया कि उनका रुझान शुरू से ही सिविल सर्विसेस की तरफ था और डॉक्टर हों या पुलिस अफसर, दोनों का काम लोगों के दर्द को दूर करना ही है. Also Read - मेरे जन्मदिन पर 2.5 करोड़ टीके लगने से एक राजनीतिक दल को बुखार आ गया: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इस वर्चुअल संवाद में ट्रेनी अफसरों से कहा, ‘आम नागरिकों में पुलिस की नकारात्मक धारणा एक बड़ी चुनौती है. COVID की शुरुआत में, यह धारणा थोड़ी बदल गई थी क्योंकि पुलिस गरीबों और जरूरतमंदों की मदद कर रही थी. हालांकि, यह धारणा नकारात्मक ही बनी हुई है. ऐसे में यह सुनिश्चित करना पुलिस की नई पीढ़ी की जिम्मेदारी है कि लोगों की पुलिस के प्रति यह धारणा बदल जाए.’ Also Read - Vaccination Drive: पीएम मोदी के जन्मदिन पर रिकॉर्ड वैक्सीनेशन, पहली बार 2 करोड़ से ज्यादा लगे टीके

प्रधानमंत्री बोले- कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हमारे पुलिसकर्मियों ने, देशवासियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम किया है। इस प्रयास में कई पुलिस कर्मियों को अपने प्राणों ही आहूति तक देनी पड़ी है. मैं उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं और देश की तरफ से उनके परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं.

IPS प्रोबेशनर्स को संबोधित करते हुए पीएम मोदी बोले, ‘बीते वर्षों में पुलिस फोर्स में बेटियों की भागीदारी को बढ़ाने का निरंतर प्रयास किया गया है. हमारी बेटियां पुलिस सेवा में दक्षता और जवाबदेही के साथ विनम्रता, सहजता और संवेदनशीलता के मूल्यों को सशक्त करती हैं.’ इसके साथ ही ‘अगर पुलिस अपने बल में फिटनेस को बढ़ावा देगी तो समाज के युवा फिट रहने के लिए और अधिक प्रेरित होंगे.’