new Parliament House नए संसद भवन में निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वहां तैनात कामगारों के योगदान को याद रखने के लिए एक डिजिटल संग्रहालय बनाया जाना चाहिए. प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने सोमवार को बयान जारी कर कहा कि उन्होंने अधिकारियों से कहा कि संसद भवन के निर्माण के लिए काम कर रहे सभी कामगारों का कोविड-19 टीकाकरण और उनकी मासिक स्वास्थ्य जांच सुनिश्चित की जानी चाहिए.Also Read - Prime Minister Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana: PM Modi ने किया उद्घाटन, जानें उद्देश्य | Watch Video

प्रधानमंत्री ने रविवार की शाम को निर्माण स्थल का दौरा किया था और परियोजना के समय पर पूरा होने पर जोर दिया था. उन्होंने निर्माण स्थल पर कामगारों से बातचीत की थी और उनका कुशल क्षेम भी पूछा था. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि वे ‘‘पवित्र एवं ऐतिहासिक’’ कार्य में लगे हुए हैं. उन्होंने कहा कि डिजिटल संग्रहालय में कामगारों का निजी ब्योरा भी होना चाहिए, जिनमें उनके नाम, उनके गृह स्थान, उनकी तस्वीर के अलावा निर्माण में उनके योगदान का उल्लेख किया जाना चाहिए. Also Read - जी-20 शिखर सम्मेलन 30 अक्टूबर को, पीएम मोदी अफगान संकट पर कर सकते हैं ये आह्वान

बयान में कहा गया कि कामगारों को इस कार्य के लिए उनकी भूमिका एवं भागीदारी का प्रमाण पत्र भी दिया जाना चाहिए. इसमें बताया गया कि प्रधानमंत्री का औचक निरीक्षण कम सुरक्षा के साथ हुआ और उन्होंने निर्माण स्थल पर एक घंटा बिताया. सरकारी अधिकारियों ने कहा है कि नया भवन 2022 में संसद के शीतकालीन सत्र तक तैयार हो जाएगा. नए संसद भवन का क्षेत्रफल 64,500 वर्गमीटर होगा. Also Read - Man Ki Baat में बोले PM Modi-जल्द ही आपकी सभी जरूरतों के लिए ड्रोन तैनात किए जाएंगे, जानिए और क्या कहा..

इसमें एक भव्य ‘कॉन्स्टीट्यूशन हाल’ होगा, जिसमें भारत की लोकतांत्रिक धरोहर को संजोया जाएगा. इसके अलावा सांसदों के लिए लाउंज, पुस्तकालय, कई समिति कक्ष, भोजन के कक्ष और पार्किंग के लिए स्थान होगा. नई इमारत में लोकसभा में 888 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी, जबकि राज्यसभा में 384 सदस्य बैठ सकेंगे.

(इनपुट भाषा)