नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को संविधान दिवस पर गुजरात के केवडिया में पीठासीन अधिकारियों के समापन सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि आज ही के दिन मुंबई में वर्ष 2008 में हुए आतंकी हमले (26/11) का जिक्र करते हुए कहा, आज की तारीख, देश पर सबसे बड़े आतंकी हमले के साथ जुड़ी हुई है. पीएम मोदी ने कहा, ” मैं मुंबई हमले में मारे गए सभी लोगों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं. मुंबई हमले के जख़्म भारत भूल नहीं सकता. आज का भारत नई नीति-नई रीति के साथ आतंकवाद का मुकाबला कर रहा है.Also Read - पाकिस्तान: इमरान खान ने किसी भी सौदे से किया इनकार, कहा- खून-खराबे से बचने के लिए मार्च निकाला गया

प्रधानमंत्री ने मुंबई हमले में मारे गए लोगों और शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ”आज की तारीख, देश पर सबसे बड़े आतंकी हमले के साथ जुड़ी हुई है. 2008 में पाकिस्तान से आए आतंकियों ने मुंबई पर धावा बोल दिया था. इस हमले में अनेक भारतीयों की मृत्यु हुई थी. कई और देशों के लोग मारे गए थे. मैं मुंबई हमले में मारे गए सभी को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.” Also Read - 8 Years Of Modi Government: पीएम मोदी की वह 8 बड़ी योजनाएं जो आम आदमी के लिए वरदान साबित हुई | Watch

Also Read - दिल्ली के प्रगति मैदान में पीएम मोदी ने उड़ाया ड्रोन। Watch Video

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ” मैं आज मुंबई हमले जैसी साजिशों को नाकाम कर रहे, आतंक को एक छोटे से क्षेत्र में समेट देने वाले, भारत की रक्षा में प्रतिपल जुटे हमारे सुरक्षाबलों का भी वंदन करता हूं.”

पीएम मोदी ने संविधान दिवस की भी चर्चा की. उन्होंने कहा कि आज का दिन बापू की प्रेरणा को, सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिबद्धता को प्रणाम करने का है. ऐसे अनेक प्रतिनिधियों ने भारत के नवनिर्माण का मार्ग तय किया था. देश उन प्रयासों को याद रखे, इसी उद्देश्य से 5 साल पहले 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया गया था.