प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) कोरोना की तीसरी लहर (Covid Third Wave) की आशंका के बीच देशभर में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने और उसकी उपलब्धता (review augmentation & availability of oxygen ) की समीक्षा में आज सुबह साढ़े 11 बजे एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करेंगे. दअरसल, कोरोना महामारी की दूसरी लहर में ऑक्‍सीन (Oxygen Crisis) की कमी का भारी सामना करना पड़ा था और इसकी आपूर्ति में बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था.Also Read - Coronavirus: केंद्र ने राज्यों को किया आगाह- त्योहारी सीजन में भीड़ को जमा होने से रोकने के लिए लगा सकते हैं पाबंदी

जानकारी के मुताबिक, कुछ ही देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 11:30 बजे देशभर में ऑक्सीजन की वृद्धि और उपलब्धता की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करेंगे. दरअसल,  कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान इस साल अप्रैल-मई के महीने में ऑक्सीजन की मांग में अचानक तेजी आ गई थी. इसके मद्देनजर देश के कई राज्यों में जीवन रक्षक ऑक्सीजन की कमी के मामले भी सामने आए थे। इसके बाद से सरकार की ओर से ऑक्सीजन का उत्पादन बढ़ाने और उसकी निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं. Also Read - Covid-19 Infection In Children: बच्चों में कोविड संक्रमण को लेकर नया शोध, सामने आई ये राहत देने वाली बात

संक्रमण की तीसरी लहर आने की आशंका को देखते हुए प्रधानमंत्री लगातार बैठकें कर रहे हैं और भविष्य में ऑक्सीजन की कोई कमी ना हो इसके लिए कदम भी उठा रहे हैं. कोरोना महामारी की तीसरी लहर की चुनौतियों से निपटने के लिए बृहस्पतिवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 23 हजार करोड़ रुपये से अधिक के पैकेज को मंजूरी दी है. Also Read - हिल स्टेशनों पर घूमने जा रहे लोगों के लिए स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया का संदेश, साझा किया शानदार वीडियो

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल बृहस्पतिवार को कहा था कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई को और मजबूत करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 23,123 करोड़ रुपए के पैकेज को मंजूरी दी. उन्होंने ट्वीट कर कहा था, ”कोरोना के खिलाफ लड़ाई को और मजबूत बनाने के लिए 23 हजार करोड़ रुपए से अधिक के एक नए पैकेज को मंजूरी दी गई है. इसके तहत देश के सभी जिलों में पीडियाट्रिक केयर यूनिट से लेकर आईसीयू बेड, ऑक्सीजन स्टोरेज, एंबुलेंस और दवाओं जैसे जरूरी इंतजाम किए जाएंगे.”

इससे पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए 23,123 करोड़ रुपए की एक नई योजना “भारत कोविड-19 आपात प्रतिक्रिया और स्वास्थ्य प्रणाली तैयारी पैकेज- चरण 2” को स्वीकृति दी. इस योजना का उद्देश्य बाल चिकित्सा देखभाल सहित स्वास्थ्य इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास और उचित परिणामों पर जोर के साथ शुरुआती रोकथाम, पहचान और प्रबंधन के उद्देश्य से त्वरित प्रतिक्रिया के लिए स्वास्थ्य प्रणाली की तैयारियों में तेजी लाना है. केंद्र सरकार इससे पहले देश भर में कोविड समर्पित अस्पताल एवं स्वास्थ्य केंद्र स्थापित करने के लिए 15000 करोड़ रुपए दे चुकी है.