नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि दक्षेस नेताओं के साथ आने से प्रभावकारी नतीजे आएंगे और कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में नागरिकों को फायदा होगा. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह एक स्वस्थ ग्रह के लिए समय पर की जाने वाली कार्रवाई है. Also Read - राहत! महाराष्ट्र में कोरोना के 18,390 नए मामले सामने आए, 392 की मौत; 20,206 मरीज हुए ठीक

बता दें कि विदेश मंत्रालय ने घोषणा की कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार यानी आज शाम पांच बजे दक्षेस देशों को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करेंगे ताकि क्षेत्र में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए संयुक्त रणनीति बनाई जा सके. मोदी ने शुक्रवार को संयुक्त रणनीति बनाने का प्रस्ताव दिया और सभी सदस्य देशों ने उनके सुझाव का समर्थन किया. Also Read - लद्दाख गतिरोध: भारत-चीन ने जारी किया संयुक्त बयान, फ्रंटलाइन पर और जवान नहीं भेजेंगे दोनों देश, जारी रहेगी वार्ता

विदेश मंत्रालय ने शनिवार को यह घोषणा की कि कि क्षेत्र में कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए एक मजबूत साझा रणनीति का खाका खींचने के वास्ते सभी दक्षेस सदस्य देशों की वीडियो कांफ्रेंस में भारत का नेतृत्व प्रधानमंत्री मोदी करेंगे. पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘कल शाम पांच बजे दक्षेस देशों के नेता वीडियो कांर्फेंसिंग के जरिए कोविड-19 की चुनौती से निपटने का खाका तैयार करने पर चर्चा करेंगे.’’ Also Read - केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने कहा- 'एक साल के लिए निलंबित हों हंगामा करने वाले सांसद'

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि हमारे साथ आने से प्रभावकारी नतीजे आएंगे और हमारे नागरिकों को लाभ मिलेगा.’’

प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा घर में ही पृथक रहने के दिशानिर्देश को भी अपने ट्विटर पर साझा किया. दिशानिर्देश को साझा करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘यहां कुछ महत्वपूर्ण सूचना है. कृपया पढ़ें.’’ स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि घर में पृथक रहने का मतलब है ‘‘कि आप और आपके प्रियजन सुरक्षित रहें.’’

सार्क के सात सदस्य देश हैं जिनमें – भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान और मालदीव शामिल है. वैसे तो सभी देशों ने पीएम मोदी के ट्वीट के बाद ही अपने सहयोग की बात कही थी लेकिन पाकिस्तान ने कुछ देर बाद इस पर हामी भरी है. पाकिस्तान ने कहा है कि वह तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से प्रस्तावित दक्षेस सदस्यों के वीडियो कॉन्फ्रेंस में शामिल होगा. इस वायरस के चलते दुनिया भर में 5,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.

पाकिस्तान ने मोदी के प्रस्ताव पर सराकारात्मक प्रतिक्रिया दी है और कहा है कि वह कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए तैयार है. उसने माना कि घातक कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न खतरे को कम करने के लिए समन्वित प्रयासों की जरूरत है.

सरकार ने शनिवार को बताया कि देश में कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामलों की संख्या 96 हो गई है और राज्यों को निर्देश दिए कि आपदा कोष के तहत कोविड-19 की रोकथाम के लिए सामग्रियों की सूची और सहयोग के मानक तैयार करें. कर्नाटक के 76 वर्षीय एक व्यक्ति और दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की कोरोना वायरस से मौत हो गई जिसे डब्ल्यूएचओ ने वैश्विक महामारी घोषित किया है. इस बीमारी से पूरी दुनिया में 5000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. कई राज्यों ने स्कूलों, कॉलेजों, सार्वजनिक संस्थानों और सिनेमा हॉल को बंद करने के आदेश दिए हैं.

(इनपुट भाषा)