नई दिल्‍ली: पाकिस्‍तान में कैद पूर्व भारतीय नेवी ऑफिसर कुलभूषण जाधव के मामले में बुधवार अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) द्वारा सुनाए गए फैसले का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्‍वागत किया है. मोदी ने कहा, हम आईसीजे में हुए फैसले का स्‍वागत करते हैं. सत्‍य और न्‍याय की जीत हुई है. आईसीजे को बधाई एक फैसले के लिए जो तथ्‍यों की गहराई पर आधारित है. पीएम ने कहा, मुझे भरोसा है जाधव को न्‍याय मिलेगा. हमारी सरकार हमेशा प्रत्‍येक भारतीय की सुरक्षा और कल्‍याण के लिए काम करती है.

कुलभूषण जाधव के लिए आखिर काम आईं देश के लोगों और परिवार की दुआएं

द हेग में स्थित अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) ने बुधवार को कुलभूषण मामले फैसला सुनाया कि पाकिस्तान को भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गई फांसी की सजा पर फिर से विचार करना चाहिए. इसे भारत के लिए बड़ी जीत माना जा रहा हैफैसला सुनाया कि पाकिस्तान को भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गई फांसी की सजा पर फिर से विचार करना चाहिए. इसे भारत के लिए बड़ी जीत माना जा रहा है.

ICJ में भारत की बड़ी जीत, कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक

बता दें कि भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में बंद कमरे में सुनवाई के बाद जासूसी और आतंकवाद के आरोपों पर फांसी की सजा सुनाई थी. इस पर भारत में काफी गुस्सा देखने को मिला था.

यह भारत के लिए महान जीत है : सुषमा स्वराज
वरिष्ठ भाजपा नेता एवं पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कुलभूषण जाधव मामले में बुधवार को आए अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत के फैसले का तहेदिल से स्वागत किया और इसे भारत के लिए एक महान जीत करार दिया. उन्होंने ट्वीट किया, ” मैं कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) के फैसले का तहेदिल से स्वागत करती हूं। यह भारत के लिए एक महान जीत है.”

आईसीजे ने सही मायनों में इंसाफ किया है: चिदंबरम
भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) के निर्णय की तारीफ करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने बुधवार को कहा कि इस मामले में सही मायनों में इंसाफ हुआ है. पूर्व गृह मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ”आईसीजे ने इस मामले में सही मायनों में इंसाफ किया है और मानवाधिकार, उचित प्रक्रिया एवं कानून को बरकरार रखा है. ”

कुलभूषण जाधव मामले में भारत की बड़ी जीत, ICJ ने पाकिस्तान से कहा- सजा की करें समीक्षा

अदालत के अध्यक्ष जज अब्दुलकावी अहमद यूसुफ की अगुवाई वाली पीठ ने कुलभूषण सुधीर जाधव को दोषी ठहराये जाने और उन्हें सुनाई गयी सजा की प्रभावी समीक्षा करने और उस पर पुनर्विचार करने का आदेश दिया. पीठ ने एक के मुकाबले 15 वोटों से यह व्यवस्था भी दी कि पाकिस्तान ने जाधव की गिरफ्तारी के बाद कंसुलर संपर्क के भारत के अधिकार का उल्लंघन किया.

मुंबई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद पाकिस्‍तान में गिरफ्तार

जजों ने कहा, पाकिस्तान ने भारत को कुलभूषण सुधीर जाधव से संवाद करने और उन तक पहुंच के अधिकार से, हिरासत के दौरान उनसे मिलने और उनका कानूनी पक्ष रखने की व्यवस्था करने के अधिकार से वंचित रखा. जज यूसुफ ने व्यवस्था दी कि पाकिस्तान वियना समझौते के तहत जाधव की गिरफ्तारी और उसे हिरासत में रखने के बारे में भारत को सूचित करने के लिए बाध्य था.