नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को फायरब्रांड स्वतंत्रता सेनानियों में से एक और ‘पूर्ण स्वराज’ के पैरोकार लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक को उनकी 100 वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित की. प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, “भारत लोकमान्य तिलक को उनकी 100वीं पुण्यतिथि पर नमन करता है. उनकी बुद्धिमानी , साहस, न्याय की भावना और स्वराज का विचार प्रेरित करता रहता है.” Also Read - PM नरेंद्र मोदी का नया रिकॉर्ड, सबसे लंबे समय तक रहने वाले पहले गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने

पीएम ने कहा- केशव गंगाधर बाल गंगाधर तिलक के रूप में जन्मे तिलक ने देश को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराने में अहम योगदान दिया. उन्होंने ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है’ का नारा दिया. वह एक विद्वान, लेखक, गणितज्ञ और दार्शनिक थे. उन्हें उनके अनुयायियों द्वारा ‘लोकमान्य’ अर्थात ‘प्रिय नेता’ की उपाधि दी गई. 1 अगस्त, 1920 को मुंबई में उनका निधन हो गया था. Also Read - पीएम नरेंद्र मोदी ने की पारदर्शी कराधान मंच की शुरुआत, बोले- करदाताओं का होगा मान-सम्मान

वहीं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने लोकमान्य तिलक के 100वें पुण्यतिथि पर आयोजित ‘लोकमान्य तिलक: स्वराज से आत्मनिर्भर भारत’ वेबिनार समारोह में कहा कि स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूंगा- यह नारा लोकमान्य तिलक ने दिया था. 19वी सदी में उन्होंने अपना सबकुछ त्यागकर पूरी जिंदगी देश के लिए संघर्ष करते रहे. यह कई लोग नहीं कर पाते. इतिहास में तिलक का नाम स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा.

(इनपुट-एजेंसी)