नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना के खिलाफ चल रही जंग से जुड़ी तैयारियों की समीक्षा की. उन्होंने समीक्षा बैठक के दौरान कोराना वैक्सीन से जुड़े रिसर्च कार्यों, कांटैक्ट ट्रेसिंग, सीरो सर्वे और दवाओं आदि के बारे में अफसरों से चर्चा की. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने सीरो सर्वे और कोविड 19 टेस्टिंग बढ़ाने का निर्देश दिया. बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, नीति आयोग के सदस्य, मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार व अन्य वरिष्ठ अफसरों ने हिस्सा लिया. प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के खिलाफ जंग में भारतीय वैक्सीन डेवलपर्स और निमार्ताओं की ओर से किए गए प्रयासों की सराहना की. कहा कि ऐसे सभी प्रयासों के लिए सरकार अपने स्तर से हर तरह की सुविधा और समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध है. Also Read - जानें क्या है 10 हजार करोड़ का आयुष्मान सहकार फंड, जिसे केंद्र सरकार ने किया लॉन्च

प्रधानमंत्री ने कोरोना के टीकों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के व्यापक वितरण तंत्र का जाजया लिया. उन्होंने पर्याप्त खरीद के लिए उचित सिस्टम और थोक भंडार के लिए तकनीक के बारे में जानकारी ली. प्रधानमंत्री मोदी ने सीरो सर्वे और परीक्षण को बढ़ाने का दिया निर्देश. उन्होंने कहा कि तेजी से और सस्ते में कोविड 19 के परीक्षण की सुविधा सभी को जल्द से जल्द उपलब्ध होनी चाहिए. Also Read - पीएम मोदी बोले- भारत ने सबसे पहले लगाया लॉकडाउन इसलिए आ रही करोना के मामलों में कमी

प्रधानमंत्री मोदी ने पारंपरिक चिकित्सा उपचारों के कठोर वैज्ञानिक परीक्षण और सत्यापन की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने इस कठिन समय में साक्ष्य आधारित अनुसंधान करने और विश्वसनीय समाधान प्रदान करने के लिए आयुष मंत्रालय के प्रयासों की सराहना की. प्रधानमंत्री ने पूरे विश्व के लिए कम लागत में टीका और दवा आसानी से उपलब्ध कराने के देश के संकल्प को दोहराया. प्रधानमंत्री ने इस वैश्विक महामारी के खिलाफ उच्च स्थिति की तैयारी की अपील की. Also Read - कोल्ड चेन की कमी से दुनिया में तीन अरब लोगों तक कोरोना टीका पहुंचने में हो सकती है देर