लेह: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर की एक दिवसीय यात्रा पर शनिवार सुबह यहां पहुंचे. पीएम मोदी ये लद्दाख के आध्यात्मिक नेता 19 वें कुशक बाकुला रिनपोचे की 100 वीं जयंती के समापन समारोह में भाग लिया. प्रधानमंत्री ने लेह में कुशक बाकुला रिनपोचे को श्रद्धांजलि अर्पित की है. उनके साथ में केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी हैं. Also Read - पीएम मोदी ने एशिया की सबसे लंबी जोजिला सुरंग की आधारशिला रखी, हर मौसम में पहुंच सकेंगे कारगिल और लेह

हवाईअड्डे पर पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री सड़क पर रुके और उन्होंने स्वागत के लिए आए लोगों से मुलाकात की. उन्होंने ट्वीट कर कहा. ” मैं गर्मजोशी भरे स्वागत के लिए लेह के शानदार लोगों का आभार जताता हूं. मैं यहां आकर खुश हूं.” मोदी लद्दाखी आध्यात्मिक नेता 19 वें कुशक बाकुला रिनपोचे की 100 वीं जयंती के समापन समारोह में भाग रहे हैं.

पाकिस्तान ने किशनगंगा परियोजना के उद्घाटन पर चिंता जताई
पाकिस्तान ने पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा जम्मू कश्मीर में 330 मेगावाट किशनगंगा पनबिजली परियोजना के शनिवार को प्रस्तावित उद्घाटन पर चिंता जताई है. पाकिस्तान ने कहा कि दोनों देशों के बीच विवाद सुलझे बिना इसका उद्घाटन सिंधु जल संधि का उल्लंघन होगा. पीएम मोदी बांदीपुरा जिले में इस बिजली परियोजना का उद्घाटन करने जा रहे हैं. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, पाकिस्तान का मानना है कि विवाद के निपटारे के बिना परियोजना का उद्घाटन करना सिंधु जल संधि का उल्लंघन होगा.

लेह में  जल विद्युत परियोजना का शुभारंभ किया था
प्रधानमंत्री की यह यात्रा रमजान के पवित्र महीने के दौरान आतंकवादी संगठनों के खिलाफ अभियानों को रद्द करने की केंद्र की घोषणा के बाद हो रही है. पाकिस्तान और चीन के साथ सीमा साझा करने वाले इस क्षेत्र में मोदी की यह दूसरी यात्रा है. श्रीनगर से 450 किलोमीटर उत्तर में स्थित लेह में मोदी इससे पहले 12 अगस्त 2014 को आए थे और तब उन्होंने एक जल विद्युत परियोजना का शुभारंभ किया था.                    (इनपुट: एजेंसी)