PM Narendra Modi during meeting with CMs मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस के हालात फिर चुनौतीपूर्ण बन रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में स्थिति बहुत गंभीर है. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने कोविड-19 महामारी की पहली लहर की चरम सीमा को पार कर लिया है हालांकि कुछ राज्यों में स्थिति बहुत गंभीर है.Also Read - भारत ने अपनी 90% वयस्क आबादी का पूर्ण टीकाकरण किया: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मंडाविया

PM मोदी ने कहा, “महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब, मध्यप्रदेश और गुजरात समेत कई राज्य फ़र्स्ट वेव की पीक को भी क्रॉस कर चुके हैं. कुछ और राज्य भी इस ओर बढ़ रहे हैं. हम सबके लिए ये चिंता का विषय है.” Also Read - विजय संकल्प सभा को संबोधित करते हुए बोले पीएम मोदी- हम तेलंगाना के किसानों के कल्याण के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं

उन्होंने कहा कि देश में इस बार कोविड संक्रमण की बढ़ोतरी पहले से भी तेज है. हम सब के लिए यह चिंता का विषय है. इस बार लोग पहले की अपेक्षा बहुत लापरवाह हो गए हैं. Also Read - बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक: अमित शाह ने कहा- कांग्रेस को मोदी फोबिया हुआ, अगले 30-40 साल हमारी पार्टी के

देश में COVID19 स्थिति को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक पर PM मोदी ने कहा कि अधिकतर राज्यों में प्रशासन ही सुस्त नजर आ रहा है. ऐसे में कोविड के मामलों में अचानक बढ़ोतरी ने मुश्किलें ज्यादा पैदा की है.

उन्होंने कहा, “हमारे पास पहले के मुताबिक कोरोना से निपटने के लिए अच्छे संसाधन है. अब हमारे पास वैक्सीन भी है. अब हमारा बल माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने पर होना चाहिए. नाइट कर्फ्यू की जगह कोरोना कर्फ्यू का शब्द इस्तेमाल करे, इससे सजगता बनी रहती है.”

PM मोदी ने कहा कि 11 अप्रैल ज्योतिबा फुले जी की जन्मजयंति है और 14 अप्रैल बाबा साहेब की जन्म जयंति है, उस बीच हम सभी ‘टीका उत्सव’ मनाएं.

प्रधानमंत्री ने कहा, “पहले हमने बिना वैक्सीन के जीत हासिल की थी. हमें टेस्टिंग पर बल देना होगा. वैक्सीन लेने के बाद भी हमें मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा. इस संकट को भी हम पार करके निकल जाएंगे.”

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में कहा कि किसी व्यक्ति के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद 72 घंटे में उसके संपर्क में आए 30 लोगों का पता लगाना हमारा लक्ष्य होना चाहिए.

प्रधानमंत्री ने कोविड उपयुक्त व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए राज्यों में सर्वदलीय बैठक बुलाने का सुझाव दिया, जिसमें राज्यपाल, मशहूर हस्तियों एवं अन्य सम्मानित लोगों को शामिल किया जाए.