नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को भारत की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस को रवाना की. हालांकि, पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद इस अवसर पर कोई कार्यक्रम नहीं हुआ. ट्रेन में भी किसी तरह की सजावट नहीं की गई और बिल्कुल सादगी के साथ ट्रेन को रवाना किया गया. इस दौरान लोग दो मिनट का मौन रखकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई. ट्रेन दिल्ली से वाराणसी नौ घंटे 45 मिनट में पहुंचेगी. इस यात्रा अवधि में ट्रेन कानपुर और इलाहाबाद स्टेशन पर 40-40 मिनट रूकेगी जहां विशेष कार्यक्रम होगा.

अलर्ट! इंडिगो की 130 फ्लाइट्स आज रद्द, ये है कारण

सेमी हाई स्पीड ट्रेन 18 का नाम हाल में वंदे भारत एक्सप्रेस कर दिया गया था. यह ट्रेन अधिकतम 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है. शताब्दी ट्रेनों से भी बेहतर सुविधा इसमें होगी. इसका मकसद यात्रियों को बिल्कुल नया अनुभव देना है. इसमें 16 वातानुकूलित कोच होंगे जिसमें दो एक्जीक्यूटिव श्रेणी के होंगे. कुल 1128 यात्री इसमें सवार हो पाएंगे. वंदे भारत एक्सप्रेस का निर्माण ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत चेन्नई में इंटिग्रल कोच फैक्टरी (आईसीएफ) में किया गया है.

सस्ता हुआ टिकट
किराये को तर्कसंगत बनाते हुए रेलवे ने दिल्ली-वाराणसी सफर के लिए वातानुकूलित कुर्सीयान का किराया 1850 रुपये की जगह 1760 रुपये, जबकि एक्जीक्यूटिव श्रेणी का किराया 3520 रूपये की जगह 3310 रूपये करने की घोषणा की है. नई दिल्ली से वाराणसी तक एक्जीक्यूटिव श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्रियों को सुबह की चाय, नाश्ते और भोजन के लिए 399 रुपये देने पड़ेंगे जबकि कुर्सीयान के यात्रियों को 344 रूपये लगेंगे.

3000 रु. की पेंशन के लिए आज से करना होगा अप्लाई, इस तरह ले सकेंग PMSYM का लाभ

ट्रेन का शिड्यूल
ट्रेन सुबह छह बजे राष्ट्रीय राजधानी से रवाना होगी और दोपहर दो बजे वाराणसी पहुंचेगी. उसी दिन यह ट्रेन वाराणसी से तीन बजे चलेगी और रात 11 बजे दिल्ली पहुंचेगी. सोमवार और बृहस्पतिवार को छोड़कर ट्रेन सप्ताह में पांचों दिन चलेगी