अब जल्द ही इंदिरा गांधी योजना को आप आने वाले समय में आप प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम से जानेगें। एक बिजनेस न्यूज़ की खबर के अनुसार केंद्र सरकार अब इस बदलाव के साथ इस योजना में भी कई तरह की बदलाव करने वाली है। फ़िलहाल इस पुरे नवीनी करण पर अभी चर्चा चल रही है अगर इसमें बदलाव पर नजर डाले तो पहले मिलने वाले घर के मुकाबले बड़े घर देने का प्लान है इसके साथ इस इस योजना में अब ग्रामीण शब्द को भी जोड़ा जाकता है। Also Read - Tamil Nadu Elections: पीएम मोदी बोले- भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण क्षण में होने जा रहे तमिलनाडु विधानसभा चुनाव

Also Read - PM Kisan Samman Nidhi Scheme: किसान निधि योजना के आज पूरे हुए दो साल, PM मोदी ने कही ये बड़ी बात

अगर इंदिरा गांधी विकास योजना की बात करें तो इस योजना के तहत बनने वालें मकानों की संख्या में बड़ी गिरावट आई है। इस साल के वित्त वर्ष में कुल 25.19 मकान बनाने की योजना थी लेकिन अब तक सिर्फ 9.80 लाख ही मकान बन पाया है। इस योजना की शुरुवात करने के पीछे पिछली सरकार का कहना था की इसका फायदा गरीबों को होगा एक तरह से कहा जाए तो यह एक मजबूत वोट बैंक भी था। लेकिन अब केंद्र सरकार इसमें जो बदलाव करने जारही है जो लोगों को और भी लुभावने फायदें दे सकती है। Also Read - कोरोना के बढ़े मामले तो कर्नाटक ने बंद कर दिये बॉर्डर, केरल के CM ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर किया यह अनुरोध

केंद्र सरकार इसमें जो बदलाव लाने वालें है उसके तहत अब महंगे और बड़े घर बनेगें और इनकी कीमत भी दुगनी हो जायेगी। लेकिन इसके लिए मौजूदा आवंटन 75 हजार रुपये प्रति महिना है। इसके आलावा मकान इस नई योजना में घर का कुल 22 वर्ग मीटर से बढ़ के 25 वर्ग मीटर तक हो जाएगा। फ़िलहाल जब से केंद्र में नई सरकार आई है उसने दो योजना का नाम अब तक बदल चुकी है जिसमें दोनों राजीव गांधी का नाम से थी। यह भी पढ़ें: कांग्रेस के नेता ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ दिया सबसे विवादित बयान