नई दिल्ली. मीडिया के साथ दूरी बनाने को लेकर विपक्षी दलों के आरोप झेलने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2019 के पहले ही दिन समाचार एजेंसी एएनआई को अपना इंटरव्यू दिया. इंटरव्यू के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर, सर्जिकल स्ट्राइक, जीएसटी, विधानसभा चुनाव, अर्थव्यवस्था, नोटबंदी, केंद्र सरकार की योजनाओं आदि विषयों पर खुलकर अपने विचार रखे. राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार इसी साल कुछ महीने बाद होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर पीएम मोदी का यह इंटरव्यू, देश की सियासत में मील का पत्थर साबित हो सकता है. साक्षात्कार के दौरान पीएम मोदी ने हर विषय या मुद्दों पर बेबाकी से बयान दिया. जीएसटी के मुद्दे पर पूछे गए सवाल और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों पर भी उन्होंने अपनी बातें रखीं. राहुल द्वारा जीएसटी को ‘गब्बर सिंह टैक्स’ कहे जाने को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि जो जैसा सोचता है, उसकी बातें वैसी ही होती हैं.

इंटरव्यू: पीएम मोदी की पाक को लेकर दो टूक, कहा- 'एक लड़ाई से पाकिस्तान सुधर जाएगा, ये सोचना बड़ी गलती होगी'

इंटरव्यू: पीएम मोदी की पाक को लेकर दो टूक, कहा- 'एक लड़ाई से पाकिस्तान सुधर जाएगा, ये सोचना बड़ी गलती होगी'

जीएसटी के नियमों में बार-बार संशोधन को लेकर पीएम मोदी ने कांग्रेस के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, ‘जो जैसा सोचता है, वह उसी अंदाज में बातें भी करता है. क्या केंद्र सरकार ने जीएसटी को लागू करने से पहले देश की सभी राजनीतिक पार्टियों से सहमति नहीं ली थी? जब प्रणब मुखर्जी देश के वित्त मंत्री थे, उसी समय जीएसटी की प्रक्रिया शुरू हुई थी.’ पीएम मोदी ने जीएसटी को लेकर पूछे गए सवाल से पहले भाजपा के कांग्रेस-मुक्त नारे पर भी बात की. पीएम ने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी के लोग भी कहते हैं कि कांग्रेस एक विचार, एक संस्कृति है. जब मैं कांग्रेस-मुक्त देश की बात करता हूं तो इसका सीधा और स्पष्ट आशय है कि देश को कांग्रेस की बनाई संस्कृति से निजात दिलाना. और मैं यह कहता हूं कि कांग्रेस भी कांग्रेसी संस्कृति से निजात पाना चाहती है.’

कालाधन को लेकर भी पीएम मोदी ने इंटरव्यू के दौरान विभिन्न सवालों के जवाब दिए. उन्होंने कहा कि जो भी लोग देश का पैसा लेकर भागे हैं, सरकार आज नहीं तो कल उन्हें कूटनीतिक तरीकों से वापस लेकर आएगी. देश का धन कहीं भी नहीं जाएगा. मोदी ने कहा, ‘मेरी सरकार के कार्यकाल के दौरान जो लोग भी देश छोड़कर फरार हुए हैं, उन्हें वापस लाया जाएगा. आज नहीं तो कल. कूटनीतिक तरीकों से, कानूनी तौर पर उनकी संपत्ति जब्त करने की प्रक्रियाएं चल भी रही हैं. जिन्होंने भी देश के धन की चोरी की है, उन्हें एक-एक पैसा चुकाना होगा. कोई भी हमारे देश का पैसा लेकर भाग नहीं सकता.’ इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने राम मंदिर निर्माण को लेकर अध्यादेश लाने की प्रक्रिया पर भी अपने विचार रखे. उन्होंने कहा कि कानूनी प्रक्रिया पूरी होने तक उनकी सरकार इस मसले पर अध्यादेश नहीं लाएगी.