PM Narendra Modi Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) आज सुबह 11 बजे ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) कार्यक्रम के जरिये देश को संबोधित कर रहे हैं. प्रधानमंत्री मोदी के मासिक रेडियो कार्यक्रम का यह 69वां कड़ी है. इससे पहले पीएम मोदी ने 30 अगस्त को ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया था. इस कार्यक्रम को आकाशवाणी, दूरदर्शन के समूचे नेटवर्क और नरेंद्र मोदी ऐप (Narendra Modi App) पर प्रसारित किया जा रहा है. बता दें कि इस दौरान पीएम मोदी ने महात्मा गांधी, भगत सिंह और देश में सुनाई जाने वाली पारंपरिक कहानियों के बारे में भी चर्चा की.Also Read - Man Ki Baat: मन की बात में बोले पीएम मोदी-पर्व और त्योहार मनाते समय याद रखें, कोरोना अभी गया नहीं है

पीएम के भाषण की 10 अहम बातें Also Read - Tokyo Olympics 2020: टोक्यों ओलंपिक का हुआ आगाज, पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी शुभकामनाएं

1- पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में एक बार फिर 2 गज दूरी यानी सोशल डिस्टेंसिंग अपनाने को कहा. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में यह अनिवार्य जरूरत बन चुकी है. Also Read - Pegasus लीक पर गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान- कांग्रेस और वैश्विक संगठनों को लेकर कही यह बात...

2- पीएम मोदी ने कहा कि महामारी ने परिवार को एक किया है. इस दौरान परिवार के सदस्यों को चाहिए कि सप्ताह में समय निकालें और कहानी की विषय वस्तु तय कर सभी को उस विषय के बारे में कहानी ढूंढने में लगाया जाए और सुनाया जाए. पीएम ने कहा कि मैं, कथा सुनाने वाले, सबसे, आग्रह करूंगा. हम आज़ादी के 75 वर्ष मनाने जा रहें हैं. क्या हम हमारी कथाओं में पूरे गुलामी के कालखंड की जितनी प्रेरक घटनाएं हैं, उनको, कथाओं में प्रचारित कर सकते हैं!

3- पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना काल के कठिन समय में हमारे कृषि क्षेत्र ने देश में अपना दमखम दिखाया है. उन्होंने कहा कि हमारे यहां कहावत है कि, जो ज़मीन से जितना जुड़ा होता है, वो बड़े-से-बड़े तूफानों में भी उतना ही अडिग रहता है. इसी का उदाहरण हमारा कृषि क्षेत्र है जिसने जीवंत उदाहरण पेश किया और कठिन समय में भी अपना दमखम दिखाया.

4- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइकल पर बोलते हुए कि चार साल पहले लगभग यही समय था जब पूरी दुनिया ने हमारे जवानों के साहस, शौर्य और निर्भीकता को देखा था. हमारे बहादुर सैनिकों का बस एक ही लक्ष्य था, हर कीमत पर भारत मां की रक्षा करना और भारत भूमि की रक्षा करना.

5- पीएम बोले कि 3-4 साल पहले महाराष्ट्र में फलों और सब्जियों को APMC के दायरे से बाहर किया गया था. इसी फैसले ने महाराष्ट्र में फल और सब्जी उगाने वालों की स्थिति को बदल दिया है. Sri Swami Samarth Farmer’s producer company limited (किसानों का समूह) इसका सबसे बढ़िया उदाहरण है.

6- पीएम मोदी ने भगत सिंह को याद करते हुए कहा कि भगत सिंह का जज्बा हमारे दिलों में होना चाहिए. उनका देश की आजादी में बहुत बड़ा योगदान है. एक 23 साल के युवक से अंग्रेजी सरकार डर गई. मैं भगत सिंह को नमन करता हूं. 28 सितंबर को हम भगत सिंह की जयंती मनाएंगे.

7- प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं अपने जीवनकाल में लंबे अरसे तक परिव्राजक के रूप में रहा. मैं हर दिन, नए गांव, नए परिवार, नए लोगों से मिलता. मेरी जिंदगी ही घुमंतू थी. जहां जाता वहां नए किस्से और पारंपरिक कहानियां सुनने को मिलतीं. हमारे यहां कथा की परंपरा है. हमारे यहां धार्मिक कहानियां कहने की प्राचीन परंपरा है.

8- प्रधानमंत्री मोदी ने महात्मा गांधी को याद करते हुए कहा कि महात्मा गांधी के विचार आज के दौर में ज्यादा प्रासंगिक है. 2 अक्टूबर का दिन हमारे लिए प्रेरक और पवित्र दिवस है.

9- प्रधानमंत्री ने देश की जनता को संक्रमण से बचने की अपील की और बोले कि एहतियात बरतने की जरूरत है. जब तक दवा नहीं आ जाती, तब तक ढिलाई नहीं बरती जाएगी.

10- ‘मन की बात’ कार्यक्रम के दौरान अपनी बात रखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने स्टोरी टेलिंग सोसायटी के सदस्यों से भी बात की.